गाँव वाली सेक्सी चाची की चुत चुदाई-2

(Gaon Wali Sexy Chachi Ki Chut Chudai- Part 2)

मेरी चाची सेक्स कहानी के पहले भाग
गाँव वाली सेक्सी चाची की चुत चुदाई-1
में आपने पढ़ा कि मैं अपनी चाची की नाइटी पर हाथ फेर कर उनकी ब्रा की स्ट्रिप को टटोल रहा था लेकिन चाची के जिस्म पर शायद ब्रा थी ही नहीं. अभी मैं कुछ और करता कि तभी चाची ने सोने का कहा और उठ कर अपने कमरे में जाने लगीं. उन्होंने मुझे अपने कमरे में सोने का कह दिया था और मैं चड्डी बनियान में ही उनके कमरे में उनके बेड पर बैठ गया था.

अब आगे:

चाची ने पलंग पर दो रजाइयां रखीं और मुझे रजाई में लेटने का कह कर लेट गईं. मैं और चाची एक साथ एक ही बेड पर सो गए. चाची ने अपनी आंखें मूंद लीं. मुझे नींद कहां आने वाली थी. मैं चुपके से उनकी रजाई में घुस गया और उनकी गांड पर लंड रगड़ने लगा. ऐसा करते हुए मेरी गांड तो फट रही थी, पर मैं भी क्या करता. जब लंड खड़ा होता है, तो कुछ नहीं सूझता है.

जब चाची की तरफ से कोई विरोध नहीं दिखा, तो मैंने आगे हाथ बढ़ाए और हल्के से उनके चुचे दबाने लगा.

हाय क्या नर्म गर्म थे यार … एकदम तोतापुरी आम के जैसे. मेरा दिल कर रहा था कि मुँह लगा कर चाची के आम चूस लूं.

मैं थोड़ी देर रुककर मम्मे दबाता रहा. जब उनका कोई विरोध नहीं हुआ, तो मैंने समझा कि चाची मजा ले रही हैं. मैंने बेख़ौफ़ हो गया और उनके ऊपर आकर उनको किस करने लगा. जैसे ही मैंने उनके गुलाबी होंठों को किस किया, मुझे स्वर्ग का सा आनन्द मिला.

पर ये आनन्द ज्यादा देर तक नहीं चला. चाची जाग गयी थीं और उन्होंने मुझे बाजू में धकेल कर एक तमाचा दे मारा. मेरी तो गांड फट गयी. मैं उनसे माफी मांगने लगा.

वह बोलीं- मैं तुझे अच्छा लड़का समझती थी … और तू ऐसा कर रहा था मादरचोद, हवसी साले भड़वे.
वो मुझे तमाचा मारने लगीं. चाची कहने लगीं- मैं तेरी इस हरकत के बारे चाचा को सब बोल दूंगी.

मेरे पास अब दूसरा उपाय भी नहीं था. मैंने उनको पकड़ा और जोर से दबोचकर उनको किस करने लगा. वह धीमी आवाज में गालियां बक रही थीं, पर मैंने उनको छोड़ा नहीं. उनको किस करते रहा. उनके चूचों को मसलता रहा. चाची की गर्दन पर काट रहा था, कभी होंठों को चूस रहा था.

वो मेरा विरोध कर रही थीं, मुझे दूर धकेल रही थीं, पर मैं कहां मानने वाला था.

मुझे अब मजा आ रहा था. उनकी चुसाई करने और उनकी गाली खाने में मुझे मजा आ रहा था. फिर मैंने फुर्ती दिखाते हुए उनका एक चूचा नाइटी से बाहर निकाल लिया और मुँह में लेकर चूसने लगा.

अब उनका विरोध भी कम होने लगा था. उनके मुँह से गाली की बजाए सिसकारी निकल रही थी. फिर भी वो मेरा साथ नहीं दे रही थीं. मैंने उनके दोनों चुचों को पकड़ कर बाहर निकाला और बारी बारी से चूसने लगा.

चाची बोलने में लगी थीं- आह भड़वे अआह साले मादर…चोद ओह अआह बस कर … अआह ओह्ह हाय अआह.
मैं लगातार उनके चुचे चूसने में लगा रहा. शायद चाचा ने कभी उनके चूसे नहीं होंगे, इसी कारण उनको मजा आ रहा था.

अब उनका विरोध एकदम से कम हो गया था और वह मेरा साथ देने लगी थीं. चाची अब मेरे सिर पर प्यार से हाथ फिरा रही थीं. उनके मुँह से ‘ई.ईई..ई … ई..ई… श्श्शश … अह्हहह …’ निकल रहा था.

मैं कुछ पल बाद नीचे जाकर चाची की चुत को ऊपर से ही सहलाने लगा. इससे उनके शरीर में अलग सी सिहरन आ गयी.

फिर मुझसे रहा नहीं गया. मैंने उनकी नाइटी उतार कर चाची को पूरी नंगी कर दिया.

दोस्तों उनका फिगर देखर बूढ़ा भी उनको चोदने को राजी हो जाए, स्वर्ग से आयी हुई अप्सरा सा मक्खन जैसा उनका बदन था. उनको नंगा देख कर मेरे मुँह में पानी आ रहा था.

चाची उठने को हुईं, मैंने उनको धक्का देकर बिस्तर पर चित लिटा दिया और उनके पैर फैलाकर उनकी चुत की सुगंध लेने लगा. चाची की चुत से मूत्र और प्रीकम की मिली-जुली सुगंध आ रही थी, जो मुझे मदहोश कर रही थी.

मैंने जैसे ही अपनी जीभ को उनकी चुत पर लगाया, चाची ने एकदम मुझे दूर कर दिया, वो कहने लगीं- हट … ये गंदी जगह है इसे मत चाट.
पर उनको पता नहीं था कि चुत चटवाने से ही उनको असली मज़ा आएगा. मैं फिर से चाची के चुत पर लग गया और चुत के अन्दर उंगली डालने लगा.

उनके मुँह और तेज सिसकारी निकलने लगी थी- अआह उह आउच आ जोर से … अआह मजा आ रहा है.

सही मौका देखकर मैंने अपना मुँह उनकी चुत पर फिर से लगा दिया और चुत चाटने लगा. मेरे इस हमले से वह घबरा गईं, मुझे दूर हटाने लगीं. पर मैंने उनकी चुत को चाटना नहीं छोड़ा. उनकी चुत चाटते वक़्त मैं उनकी चुत में उंगली भी कर रहा था. उनकी गुलाबी चुत का स्वाद खट्टा और नमकीन सा था, पर मदहोश करने वाला था.

अब उनकी सिसकारियों से कमरा गर्म होने लगा था. मैं लगातार उनकी चुत चाट रहा था. उनके कामरस को पी रहा था और अब चाची मेरा सिर अपनी चुत पर दबा रही थीं.
चाची कह रही थीं- अआह आ आउच आअज तूने जिंदगी का मजा दे दिया … अआह आउच.

बस 3-4 मिनट के बाद उनका कामरस मेरे मुँह में आ गया, जो मैंने चाट कर पी लिया. मैंने चाची की चुत को पूरा चाट कर साफ कर दिया. उनकी रेशम सी झांटें मुझे बड़ा मजा दे रही थीं.

चाची ने चुत चटने के बाद उठ कर मुझे गले से लगाया और कहा- तुम्हारे चाचा ने कभी मेरी चुत नहीं चाटी थी, पर आज मैं समझी कि चुत चुसाई में कितना मज़ा आता है. चाची मुझे गले से लगाकर मुझे किस करने लगीं. वे खुद अपनी चुत के रस का स्वाद मेरे मुँह से लेने लगीं. उनकी आंखें वासना से लाल हो गई थीं.

चाची का तो काम हो गया था. फिर उन्होंने मुझे नंगा करना चालू कर दिया. मैंने फट से सारे कपड़े उतारे और नंगा हो गया.

दोस्तो, मैं ये तो नहीं कहूँगा कि मेरा 7 इंच का है या 8 इंच का है, दस इंच का है. मेरा लंड लगभग साढ़े पांच इंच का है और एकदम कड़क है.

मैंने चाची को बैठा कर उनके मुँह में अपना लंड देना चाहा, पर वो मना कर रही थीं. थोड़ी देर कोशिश करने पर मैंने उनके मुँह में जबरदस्ती से लंड डाला और चूसने को बोला. चाची मेरा लंड चूसने लगीं.

अआह राम … इतना मजा तो मुझे अब तक मेरी गर्लफ्रेंड ने भी नहीं दिया था, जितना मजा चाची दे रही थीं. उनके गुलाबी होंठों पर मेरे लंड का सुपारा लगा हुआ था और चाची लंड चूस रही थीं.

कुछ देर बाद मैंने चाची को 69 पोजीशन में ले लिया. मैं नीचे रहा और उनको मैंने अपने ऊपर ले लिया. अब वो बहुत गर्म हो गई थीं और अपनी चुत को मेरे मुँह पर लगा कर मेरा लंड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थीं. नीचे से मैं उनकी चुत को चाटे जा रहा था.

उनकी चुत से कामरस बह रहा था और मैं चूस चूस कर उनके दाने को चचोर रहा था. तभी मैंने एक उंगली चाची की गांड में डाल दी. चाची की हल्की सी चीख निकल गई, पर उन्होंने मेरे लंड को चूसना नहीं छोड़ा. उन्होंने तनिक उठते हुए अपनी चुत को हटा कर मेरे मुँह में अपनी गांड लगा दी थी. मैंने भी चाची की चुत छोड़कर उनकी गांड के छिद्र को चूसना चालू कर दिया.

दोस्तो, अगर लड़की को एकदम से गर्म करना है, तो उसको पहले खूब रगड़ो और उसकी चुसाई करो. वो एकदम से हॉट हो जाएगी.

जैसे ही मैं चाची की गांड चूसने लगा, उन्होंने मेरा लंड चूसना छोड़ दिया और मेरी जीभ से अपनी गांड चुसाई का मजा लेने लगीं. मैं उनकी चुत के दाने को भी अपनी उंगलियों में दबा कर मसल रहा था.

थोड़ी देर बाद चाची का फिर से कामरस निकल गया. मेरा भी अब निकलने वाला था, तो मैंने चाची के मुँह में जोर जोर से धक्के मार कर उनके मुँह में लंड रस गिरा दिया. चाची ने मेरी रबड़ी खा ली थी.

अब हम दोनों निढाल होकर पड़े थे.

कोई आधे घंटे के बाद मैं चाची के ऊपर चढ़कर उन्हें चूमने लगा. मैं उनके हरेक अंग को चाटने चूसने में लगा था. मैं उनकी चुत में थूक लगा कर उंगली करने लगा और बाद में मैं फिर से उनकी चुत को चूसने लगा. चाची फिर से गर्म हो गयी थीं और अब तक मेरे लंड में भी जान आ गयी थी. मेरा लंड किसी रॉड की तरह सख्त हो गया था.

मैंने चाची को चित लेटाया और उनके ऊपर चढ़ गया. चाची ने अपनी टांगें खोल कर मेरे लंड के लिए चुत खोल दी थीं. मैं लंड को उनकी चुत पर रगड़ने लगा.
चाची मस्त आवाजों से बोल रही थीं- आह मां के लौड़े … अब चोद भी दे साले … अब नहीं रहा जाता.

दोस्तो, हमेशा लड़की को गर्म करके चोदो, उसी में ज्यादा मजा आता है.

मैंने देर ना करते हुए चाची की चुत के दरवाजे पर लंड टिकाया और एकदम से पूरा लंड अन्दर पेल दिया. मेरे इस अचानक हमले से बेखबर चाची की चीख निकल गयी और वो मेरी पीठ पर नाखून गड़ाने लगीं. मैं लंड पेल आकर उन्हें किस किए जा रहा था. उनकी चुत किसी भट्टी की तरह तप रही थी.

फिर मैंने शॉट लगाने शुरू किए. पहले मैं चाची की चुत में आहिस्ते आहिस्ते धक्के लगा रहा था. वह ‘अआह हमउ अआह उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्म्म्म अआह..’ ऐसे सिसकारी निकाल रही थीं. उनके चेहरे पर आनन्द ही आनन्द झलक रहा था.

मैं उन्हें धक्के पर धक्के लगा रहा था. उनके आम ऊपर नीचे हिल रहे थे. उनकी चुत में मेरा लंड घपाघप जा रहा था. उनके कामरस से मेरा लंड भीग चुका था.

लगातार दस मिनट की चुदाई के बाद मैंने चाची की चुत से लंड निकाल कर उनको घोड़ी बनाया और ढेर सारा थूक उनकी चुत पर और मेरे लंड पर लगा दिया. फिर पीछे से चाची की चुत में मैं लंड पेलने लगा.

मुझे घोड़ी बनाकर लौंडिया चोदना बहुत पसंद है. पीछे से चुत और गांड चाटना भी मेरा शगल है.

मैं चाची की चूत में पीछे से धक्के लगा रहा था. चाची अब जन्नत का मजा ले रही थीं. उनके मुँह से बस सिसकारियां निकल रही थीं. बाकी सब काम मैं पीछे से कर रहा था.

अगले ही पल मैं चाची की चुत में ताबड़तोड़ धक्के लगाने लगा, जिस कारण थोड़ी देर में चाची का कामरस मेरे लंड पर आ गया और चाची का काम उठ गया. चाची की चुत के गर्म लावे से मैं भी पिघल गया और चाची की चुत में ही मैंने अपना लावा छोड़ दिया.

हाय दोनों का गर्म गर्म लावा बड़ा सुकून दे रहा था. चाची की चुत में से बहता लावा मुझे अपने लंड पर बड़ी सुखद अनुभूति दे रहा था.

मैं लंड निकाले बिना ही उनके ऊपर ढेर हो गया.

थोड़ी देर बार चाची उठीं और बाथरूम में जाकर खुद को साफ करके आ गईं. वो मेरे लंड को चूसकर साफ करने लगीं.

चाची मुझे गले लगाकर बोलीं- हमारे बीच आज जो भी हुआ है, उसके बारे के किसी को भी बताना मत. आज के जैसा मजा मुझे कभी नहीं मिला. काश तुम मेरे पति होते.
वे मुझे गले लगाकर किस करने लगीं.

उसके बाद उस रात मैंने चाची की 2 बार और चुदाई की और सो गया.

उसके बाद मैं जितने दिन गाँव रहा और जब भी मुझे गांव जाने का मौका मिला, हम दोनों चुदाई कर लेते थे.

कभी खेत में चुदाई हो जाती थी … तो कभी घर की छत पर चुदाई काण्ड होने लगता था.

मुझे चाची की चुत लेने में इतना मजा आता है कि अब मैं मौका मिलते ही गांव चला जाया करता हूँ और चाची की चुत चोद कर आ जाता हूँ.

दोस्तो, कैसी लगी मेरी सेक्स कहानी, कुछ गलती दिखी हो, तो नजरअंदाज कर दीजिएगा. पहली बार चुदाई की कहानी लिखी है. आप अपनी प्रतिक्रिया मुझे [email protected] पर बता सकते हैं.
धन्यवाद दोस्तो.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top