सुहानी कुमारी

कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-4

हॉस्टल में कॉलेज गर्ल की गांड की चुदाई वो भी खुली छत पर कैसे हुई? इस हॉट सेक्स स्टोरी इन हिंदी में पढ़े और मजा लें. गांड में लंड जाता है तो दर्द होता है. पर मजा भी आता है.

पूरी कहानी पढ़ें »

कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-3

नंगी चूत की चुदाई स्टोरी में पढ़ें कि कैसे एक लड़की प्रतियोगिता जीतने के लिए अपने प्रतिस्पर्धी से चुदाई का सौदा करती है. कैसे चूत में लंड घुसा कॉलेज गर्ल की? मजा लें.

पूरी कहानी पढ़ें »

कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-2

कॉलेज गर्ल की नंगी चूत की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने प्रतियोगिता जीतने के लिए एक लड़के से सौदा करके अपनी चिकनी चूत चाटने का मजा उसे दिया. और उसके बाद क्या हुआ?

पूरी कहानी पढ़ें »

कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-1

कॉलेज गर्ल सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि क्या हुआ जब मुझे एक क्विज टीम लीडर बनाया. पर हमारी टीम में दम नहीं था. प्रिंसिपल ने कहा कि किसी भी तरह से जीत कर आना है.

पूरी कहानी पढ़ें »

मेरी सहेली ने मेरी चूत और गांड फ़ड़वा दी-4

हम दोनों सहेलियाँ एक दूसरे की तरफ देख मुस्कुरा रही थी और वे हमें पीछे से ज़ोर ज़ोर से चोदे जा रहे थे। उनके धक्के इतने जबरदस्त थे कि हमारी ज़ोर से चीखें निकल रही थी.

पूरी कहानी पढ़ें »

मेरी सहेली ने मेरी चूत और गांड फ़ड़वा दी-3

उसने लंड को धीरे धीरे मेरी चूत से बाहर निकाला तो देखा कि उसपे मेरे खून के निशान थे, मैं समझ गयी कि मेरी चूत का अंदर से क्या हाल हुआ होगा।

पूरी कहानी पढ़ें »

मेरी सहेली ने मेरी चूत और गांड फ़ड़वा दी-2

मैंने सोचा क्या फर्क पड़ता है, किससे चुदवाऊँ, हमारी चुत तो बनी ही है लंड के लिए, ये बड़े लंड भी ट्राई कर लेती हूँ, किसी को क्या पता चल रहा है।

पूरी कहानी पढ़ें »

मेरी सहेली ने मेरी चूत और गांड फ़ड़वा दी-1

मैं मेरी दो सहेली के साथ एक रेस्तरां में थी. मेरी सहेली कुछ नीग्रो को देख कर बोली- तुझे पता हैं इनके लंड 10 इंच तक होते हैं. कितना अंदर तक जाते होंगे, कितना मज़ा देते होंगे।

पूरी कहानी पढ़ें »

जवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासना-6

मेरी नंगी कमर उसकी तरफ थी और उसका लंड अभी भी मेरी गांड में ही था। हम दोनों के नंगे जिस्मों पे शावर का पानी बरस रहा था। उसने अपनी स्पीड बढ़ा दी.

पूरी कहानी पढ़ें »

जवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासना-5

मैं उसकी तरफ मुंह कर के गोद में आ के बैठ गयी और लंड अपनी चूत पे लगाया और अपनी चूत में लेती हुई उसपे बैठ गयी और सचिन की बांहों में हाथ डाल लिए।

पूरी कहानी पढ़ें »

जवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासना-4

उसने मेरी कुँवारी अनचुदी गुलाबी चूत को बड़े गौर से देखा और कहा- मैं कभी सोच भी नहीं सकता था कि मैं खुद अपनी सबसे अच्छी दोस्त की सील तोड़ूँगा!

पूरी कहानी पढ़ें »

जवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासना-3

हम दोनों पे जवानी का सुरूर चढ़ने लगा था, हमारी किस गहरी होती चली गयी। अब मुंह बंद नहीं था और हम एक दूसरे के होंठों को होंठों से चुपड़ चुपड़ कर किस कर रहे थे।

पूरी कहानी पढ़ें »

जवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासना-2

क्या हम आपस में ही सेक्स नही कर सकते? क्योंकि अब स्कूल खत्म होने वाला है, बॉयफ्रेंड भी नहीं है और बनाने का मन भी नहीं है अभी, पर मन करने लगा है सेक्स का बहुत।

पूरी कहानी पढ़ें »

जवानी की शुरुआत में स्कूलगर्ल की अन्तर्वासना-1

नयी चढ़ी जवानी के कारण मेरी सहेली अपने बॉयफ्रेंड से सेक्स करने लगी थी और मुझे भी थोड़ा बहुत बताती थी. तो मेरे मन में भी सेक्स को लेकर उत्सुकता पैदा होने लगी.

पूरी कहानी पढ़ें »

सहेली की मदद को उसके भाई को फंसाया-4

मेरी सहेली ने योजना बनाकर मुझे अपने भाई से चुदवा दिया. मैं भी खूब मजा लेकर चुदी और नाटक करती रही कि मैं नशे में हूँ. उसके बाद मेरी सहेली ने अपने भाई के साथ क्या किया?

पूरी कहानी पढ़ें »

सहेली की मदद को उसके भाई को फंसाया-3

मैं अपनी सहेली के साथ मिल कर उसके भाई को अपने रूपजाल में फंसा चुकी थी. वो मुझे अपने घर लाकर चोदने की पूरी तैयारी कर चुका था. मैंने भी तैयारी कर रखी थी.

पूरी कहानी पढ़ें »

सहेली की मदद को उसके भाई को फंसाया-2

मैं अपनी सहेली के भाई का लंड लेना चाहती थी तो योजना बना कर मैंने उससे दोस्ती कर ली. वो मेरे पास आने की कोशिश करता रहा और मैं उसे अपने जिस्म से दूर दूर रखती रही.

पूरी कहानी पढ़ें »

सहेली की मदद को उसके भाई को फंसाया-1

कॉलेज में खेल प्रतियोगिता में एक खूबसूरत लड़का मुझे पसन्द आ गया. वो लाइन तो दे रहा था लेकिन साले की फट रही थी लड़की से बात करते हुए. तो मैंने क्या किया?

पूरी कहानी पढ़ें »

मेरे जन्मदिन पर मेरे यार ने दिया दर्द-4

घर में कोई नहीं था तो हम नंगे घूम रहे थे घर में। हमने डिनर किया और बातें करते रहे। बीच बीच में मैं उसके लन्ड को सहला देती तो कभी वो मेरी गांड को भींच देता।

पूरी कहानी पढ़ें »

अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें

हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, सहमति बॉक्स को टिक करें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।

Scroll To Top