बर्थडे सेलिब्रेशन-3

(Birthday Celebration- Part 3)

This story is part of a series:

शीला कसमसा गयी. विशाल ने उसके होंठ अपने होंठ से लॉक कर दिए. विशाल ने अब उसके ब्लाउज और ब्रा को उतार फेंका. फिर धीरे से पेटीकोट को ऊपर से उतार दिया. अब उसने शीला को नीचे लिटाया और उसकी टांगें ऊपर कर के चौड़ी करी और पेल दिया अपना मूसल उसकी चूत में.

दोनों गुत्थम गुत्था हो गए. वैसे तो विशाल बहुत देर तक चुदाई करने वाला इंसान था पर आज नयी देसी चूत मिली थी तो वो जल्दी ही खाली हो गया पर चुदाई के इस दौर में एक पागलपन जैसा नशा था. दोनों ही थक गए थे. शीला उठी और अपनी चूत के माल को पेटीकोट से पोंछ कर जल्दी से कपड़े पहन कर अपने कमरे में भागी.

अगले दिन सुबह शीला ने ही चाय लाकर विशाल को उठाया तो विशाल ने उसे वहीं चूम लिया.
शीला ने अपने को छुड़ाया कि सुनील आ जाएगा.
और फिर वो दूसरा कप लेकर सुनील को दे आई.

नाश्ता कर के सुनील और विशाल तो साईट पर चले गए पर शीला रुक गयी कि आज बाजार से सामान लाकर सब ठीक कर दूँगी.

विशाल ने सुनील की नजर बचाकर शीला को दो हजार रूपये दे दिए कि अपने लिए कुछ ले लेना और नीचे की सफाई कर लेना.
शीला मुस्कुरा गयी. अब उसे मालूम पड़ गया था कि ये चूत मजे लेने के साथ साथ अपना खर्चा कैसे निकाल सकती है.

शाम को जब सुनील और विशाल होटल आये तो उनके कमरे, ऑफिस और किचन की हालत बदली हुई थी. शाम को शराब की मेज, फिर रात को डिनर सब बहुत बढ़िया था. सुनील ये देख रहा था कि विशाल कुछ ज्यादा ही तारीफ़ कर रहा है शीला की.

रात को फिर वही सब दोहराया गया. शीला और विशाल ने जमकर चुदाई की.

पर जैसे ही शीला विशाल के कमरे को बंद करके बाहर आई तो सुनील खड़ा था. अब वो शीला का हाथ पकड़ के अपने कमरे में ले गया.

शीला ने बहाना बताया कि वो पानी रखना भूल गयी थी तो वो रखने गयी थी.
सुनील बोला- ज्यादा नौटंकी मत कर, मैं एक घंटे से बाहर खड़ा हुआ अपना लंड सहला रहा हूँ. अब चुपचाप कपड़े उतार वर्ना अभी रामसिंह को बुला लूँगा.

शीला ने सोचा कि वो नामर्द रामसिंह तो क्या उसकी गांड मारेगा, पर कमाई की कमाई और चूत की मलाई बंद हो जायेगी. तो वो बोली- ठीक है साब, पर किसी से मत कहना.
चुदाई में सुनील विशाल से आगे था. उसने शीला की चूत के साथ गांड भी मारी.

हालांकि शीला के लिए गांड मराई का पहला अनुभव था तो दर्द तो बहुत हुआ पर सुनील ने क्रीम लगा कर उसकी गांड मारी तो उसे सहन करना पड़ा.

सुनील ने उसे रात को अपने पास ही सुलाया और सुबह उठते ही एक बार फिर उसकी चूत मारी. सुनील को विशाल का डर तो था नहीं. इसलिए जब शीला उठ कर चाय बनाने गयी तो सुनील ने विशाल को आवाज देकर बुला लिया और हँसते हुए सारी बात उसे बतायीं.

अब ये तय हुआ कि एक रात शीला विशाल के पास सोएगी और एक रात सुनील के पास.

अब तो इन इन्जीनीयर्स का काम में मन दूना लगने लगा. बस शाम को घर लौटने कि जल्दी होती.

राम सिंह भी खुश था क्योंकि उसे अब आये दिन दारु मिल जाती. शीला तो मस्त थी. चुदाई रोज होती और नए नए कपड़े अलग से.

इस बीच में जब विशाल घर जाता तो सुनील और शीला की मौज रहती. पूरी रात नंगे रहना, चुदाई से पहले भी चुदाई के बाद भी. दोनों साथ साथ ही नहाते.

पर जल्दी ही इनकी ख़ुशी को ग्रहण लग गया. सुनील और विशाल दोनों की घरवालियों ने बगावत कर दी कि हमें भी साथ रहना है तो दोनों को ही उनको लाना पड़ा.

बाकी तो कुछ नहीं बदला. अब भी रात रात भर चुदाई होती पर शीला की नहीं बल्कि विशाल की अपनी बीवी रिंकी के साथ और सुनील की अपनी बीवी प्रिया के साथ.

और शीला वापिस मूली, गाजर पर आ गयी.
हालांकि उसने एक बार गाड़ी में विशाल से कहा कि या तो वो उसको भी चोदे वर्ना वो उसकी बीवी से कह देगी.

तो अब कभी कभी विशाल और सुनील शीला की चुदाई साईट के ऑफिस में करने लगे. पर इसमें उन्हें बहुत एहतियात रखनी पड़ती. उन दोनों में से एक बाकी स्टाफ को लेकर बहाने साईट पर जाता और इस बात का ध्यान रखता कि कोई ऑफिस की ओर तो नहीं जा रहा.
पर मजबूरी थी.

शीला के रहने से उनकी बीबियों को भी आराम था पर जल्दी ही रिंकी और प्रिया ने शीला की ड्यूटी दिन में करवा दी वो शाम को अपने घर चली जाती.

रिंकी और प्रिया को भी कोई काम तो था नहीं. दिन बार टीवी देखना या अपास में हंसी मजाक करना.

विशाल ने रिंकी को पोर्न मूवी का शौक लगा दिया था तो रिंकी ने प्रिया को भी पोर्न दिखा दिखाकर सेक्स का शौक़ीन बना दिया था.

रिंकी सिगरेट पीती थी पर ये बात विशाल के अलावा कोई नहीं जानता था. पर अब यहाँ रिंकी नहीं पी पा रही थी तो उसने प्रिया को पटाया. अब वो जब ऊपर छत पर या बालकनी में जातीं तो रिंकी सुट्टे मार लेती और अब उसने प्रिया को भी दो चार सुट्टे मारने की लत लगा दी थी.
पर ये बात विशाल और सुनील दोनों नहीं जानते थे.

अब प्रिया और रिंकी बहुत खुल चुकी थीं. दोनों चुदाई की बात सहजता से कर लेती और दोपहर को साथ साथ ही सोतीं.

शीला को भी ज्यादा काम नहीं था तो वो रात का खाना बनाकर 3-4 बजे तक चली जाती.

रात को ड्रिंक्स का इंतजाम रिंकी के जिम्मे था और डिनर लगाना प्रिया के जिम्मे.

सुबह शीला जल्दी आती थी और सुनील और विशाल को नाश्ता और लंच देकर तब रिंकी और प्रिया को नाश्ता कराती. दोपहर का खाना दोनों ही नहीं खाती थीं क्योंकि ब्रेकफ़ास्ट लेट होता तो फिर लंच गायब.

रिंकी और प्रिया दोपहर को फ्रूट्स अपने कमरे में ही लेती, रिंकी ढूंढ ढूंढ कर पोर्न या एडल्ट मूवीज लगाती और दोनों हँसते हँसते एन्जॉय करतीं.

एक दोपहर को रिंकी और प्रिया टी शर्ट और नेकर पहने हुए मूवी देख रहीं थी. रिंकी ने प्रिया से पूछा- बियर पीयेगी.
प्रिया ने हाँ कह दी तो रिंकी ने बियर खोल कर दो गिलासों में करी और एक एक ढक्कन व्हिस्की मिला दी.

अब थोड़ी देर में सुरूर चढ़ गया दोनों को. रिंकी ने उठकर रूम बंद किया और बेड पर आते आते अपनी टी शर्ट और ब्रा उतार फेंकी. वो आते ही प्रिया से चिपट गयी और अपने होंठ उसके होंठों से मिला दिया.

प्रिया इस अचानक हमले को समझी नहीं पर रिंकी के होंठों कि गर्मी और मम्मों की कसमसाहट ने उसे भी मजबूर कर दिया कि वो भी नंगी हो जाए. उसने तो अपने सारे कपड़े उतार दिये और रिंकी की नेकर भी नीचे कर दी. दोनों होंठों से चिपक गयी और मम्में मसलने लगीं.

थोड़ी देर में रिंकी 69 पोजीशन में आ गयी और उसने प्रिया की चूत में अपनी जीभ कर कर दी. दोनों ने देर तक लेस्बियन सेक्स किया. उन्हें होश तब आया जब शीला ने आवाज देकर कहा कि वो जा रही है.

रिंकी ने प्रिया को देख एक बार कस के उसको चूमा और फिर दोनों कपड़े पहन कर सो गयीं.

शाम को शराब के दौर चले तो रिंकी ने कहा कि वो दोनों भी उनके साथ बैठा करेंगी, दिन भर तो अलग रहते हो और शाम को पीने बैठ जाते हो.
बात सही थी.
सुनील बोला कि साथ बैठोगी या पियोगी भी?
तो प्रिया बोली- हम अपनी कोल्ड ड्रिंक में एक चम्मच व्हिस्की मिला लेंगी.

इस एक महीने में चारों आपस में खूब खुल गए थे. और रही सही कसार अब इस शराब की महफ़िल ने पूरी कर दी. अब चारों के मजाक भी नॉन वेज होते गये.

धीरे धीरे चारों ने आपस में अश्लील हंसी मजाक या एक दूसरे को चिपटा लेना शुरू कर दिया. अब न तो विशाल और न रिंकी इस बात का बुरा मानते यदि सुनील रिंकी को हग कर लेता या कभी प्रिया को विशाल.

एक बार तो हद ही हो गयी. किसी बात पर विशाल ने प्रिया को होंठों पर चूम लिया. पर न तो सुनील ने न प्रिया ने इसका बुरा माना.

अगले हफ्ते सुनील का बर्थडे था. शाम को केक मंगाया गया. नयी बोतल खुली. केक काटने के बाद प्रिया ने सुनील को डीप किस दिया. रिंकी और विशाल ने गले लगकर सुनील को बधाई दी तो सुनील बोला- रिंकी आज तो मेरा किस बनता है.

रिंकी हँसते हुए आई और सुनील के सर को दोनों हाथों से अपनी ओर खींचते हुए जोरदार फ्रेंच किस उसको दिया.

बोटल खुली … आज सबने व्हिस्की पी.

मस्ती का माहौल था. विशाल ने म्यूजिक लगा दिया. चारों थिरकने लगे. सुनील प्रिया की बांहों में था और विशाल रिंकी की बाँहों में.
सुनील ने कहा- आज पार्टनर्स बदल कर डांस करते हैं.

हँसते हुए चारों ने पार्टनर्स बदल लिए. अब विशाल की बाँहों में प्रिया थी और सुनील की बाँहों में रिंकी.

धीरे धीरे नजदीकी बढ़ने लगी और रोशनी पास आने में बाधक.
रिंकी ने सुझाव दिया कि अगर सब चाहें तो रोशनी धीमी और म्यूजिक सेंसेशनल लगा दिया जाए.

विशाल बोला- एक एक पेग और लगा लें, फिर डांस करेंगे.
सुनील ने दो ही पेग बनाए. एक पेग विशाल को दिया और एक अपने पास रखा.

सुनील ने रिंकी को बाँहों में लेकर अपना पेग उसके होंठों से लगाया तो प्रिया के होंठों से विशाल ने पेग लगाया.

म्यूजिक रिंकी बदल चुकी थी और लाईट धीमी कर दी थी. पर अभी भी रोशनी काफी थी. धीरे धीरे दोनों के पेग ख़त्म हुए तो सुनील खड़ा हुआ रिंकी को लेकर और सबसे पहले उसने रिंकी को चूमा और फिर डांस शुरू किया.

विशाल को लेकर प्रिया भी खड़ी हुई और विशाल के होंठों को चूमकर उसने लाईट काफी धीमी कर दी. अब रोशनी सिर्फ इतनी थी कि कोई किसी से न टकराए.

म्यूजिक उन लोगों की कामाग्नि भड़का रहा था. दोनों जोड़े अब चिपक कर डांस कर रहे थे. उनके होंठ बार बार मिल जाते थे.

विशाल ने प्रिया के टॉप के अंदर पीछे से हाथ डाल दिया तो प्रिया कसमसाई. वो विशाल से छूटना चाह रही थी तो विशाल ने उसे सुनील और रिंकी की ओर दिखाया. वहां रिंकी नीचे झुकी हुई थी और उसके हाथ सुनील के लंड से खेल रहे थे.

यह देख प्रिया को भी जोश चढ़ गया. उसने अपना टॉप उतार फेंका. अब प्रिया विशाल की ओर पीठ कर के खड़ी थी. उसने अपनी बाँहें पीछे करके विशाल की गर्दन में डाल रखी थीं. वो अपने हिप्स से विशाल के लंड को धक्के दे रही थी. उसने अपनी गर्दन पीछे की और विशाल को होंठों पे चूमा.

विशाल के दोनों हाथ उसके पेट को पकड़े थे. विशाल ने धीरे से उसके मम्मे दबाते हुए प्रिया के कान को अपने जीभ से चुभला दिया.
प्रिया कसमसा गयी. वो घूमी पर उसके घूमते ही विशाल ने उसकी ब्रा के हुक खोल कर उसके मम्मे आजाद कर दिए. प्रिया के गोरे गोरे मांसल मम्मे अब विशाल के हाथों की गिरफ्त में थे.

अब प्रिया भी तेजी से विशाल की शर्ट के बटन खोल रही थी. विशाल की शर्ट उतरते प्रिया ने उसे छाती पर चूम लिया. अब विशाल ने प्रिया को घुमा कर उसकी पीठ को अपनी छाती से भिड़ाया और हाथ आगे करके उसके मम्मे मसलने शुरू किये.

प्रिया कसमसा रही थी.

विशाल ने अब एक हाथ नीचे करके प्रिया की शॉर्ट्स के बटन खोल कर एक हाथ उसकी फुद्दी तक पहुँचाया और लगा उसकी मालिश करने.
प्रिया तो पहले ही गीली हो चुकी थी. विशाल की इस हरकत से वो सिहर गयी और उसने भी एक हाथ पीछे करके विशाल की जींस खोलने की नाकाम कोशिश की.

विशाल ने उसको छोड़ा और अपनी जींस और अंडरवियर उतार दिया. उसे देख प्रिया भी नंगी हो गयी. विशाल ने सुनील और रिंकी को देखा तो वे दोनों बेड पर थे और सुनील रिंकी की चूत चाट रहा था.

होटल के बेड ज्यादा बड़े नहीं थे फिर भी विशाल प्रिया को लेकर बेड पर ही चला गया. प्रिया रिंकी के पास ही लेट गयी और उसने रिंकी के मम्मों को चूम लिया.

विशाल प्रिया के ऊपर 69 पोजीशन में आया. प्रिया ने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया और लगी लपालप चूसने. विशाल भी प्रिया की चिकनी चूत में अपनी जीभ घुसा चुका था.

प्रिया ने दिन में ही अपनी चूत चिकनी की थी सुनील का लंड लेने के लिए और मजे ले रहा था विशाल.

अब विशाल और सुनील दोनों ने ही प्रिया और रिंकी को नीचे लिटाया और उनकी टांगें ऊपर करके चुदाई शुरू की. रिंकी और प्रिया दोनों ही मस्ती में आकर मुँह से आवाजें निकाल रही थीं, दोनों को चुदाई में मजा आ रहा था.

रिंकी मौका पाकर खड़ी हुई और प्रिया के मुँह पर बैठ गयी, प्रिया ने अपनी जीभ उसकी चूत में घुसा दी.
उधर विशाल बेड पर खड़ा हो गया और रिंकी ने उसका लंड अपने मुँह में ले लिया.

क्या नजारा था.
सुनील प्रिया की चूत में अपना लंड पेल रहा था और प्रिया के मम्में दबा रहा था. प्रिया अपनी जीभ से रिंकी की चूत चूस रही थी. रिंकी अपने मुँह से विशाल का लंड निचोड़ रही थी और विशाल रिंकी के मम्मों की गोलाई नाप रहा था.

अब विशाल ने रिंकी को घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चूत में अपना मूसल घुसेड़ दिया. उधर प्रिया को भी सुनील ने घोड़ी बनाया और लगा पेलने.

प्रिया और रिंकी आमने सामने थी तो दोनों के होंठ मिल जाते. सुनील और विशाल की स्पीड तेज होती गयी और दोनों ने ही एकसाथ ही प्रिया और रिंकी की चूत में माल छोड़ दिया.
अब तक सुनील और विशाल दोनों ही कंडोम से सेक्स करते थे ताकि बच्चे की जिम्मेदारी से बचा जाए. पर इस बार जब से ये दोनों यहाँ आई थीं तो दोनों ने ही बिना कंडोम के सेक्स शुरू किया था. इसीलिए आज भी माल अंदर ही छुड़वा दिया ताकि कोई कसर रह गयी हो तो वो आज पूरी हो जाए.

चा रों बहुत खुश थे. अब बारी आई पार्टी की.
सुनील ने आज डिनर होटल से मंगाया था.

सभी ने केवल शॉर्ट्स डालीं और डिनर शुरू किया. डिनर निबटाते निबटाते 12 बज गए.

सुनील बोला- आज मेरा बर्थडे गिफ्ट सबसे अच्छा गिफ्ट रहा.
पर रिंकी बोली- गिफ्ट तो अभी बाकी है.
सुनील बोला- मतलब? अब क्या है? अब क्या विशाल मुझे चोदेगा?
इस पर रिंकी बोली- नहीं … अब मैं और प्रिया दोनों मिलकर तुम्हारा चोदन करेंगी.

रिंकी ने बेड पर दो बड़े तौलिये बिछाए और सुनील को बेड पर धक्का दिया और उसकी शॉर्ट्स उतार दी. रिंकी और प्रिया ने भी अपने कपड़े उतार दिए और बेड पर सुनील के इधर उधर लेट गयीं.
दोनों ने आगे पीछे से सुनील को चूमना शुरू किया.

रिंकी ने सुनील के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और फिर चढ़ गयी उसके ऊपर. उसने सुनील का लंड अपनी चूत में कर लिया.

तभी प्रिया ने मसाज आयल उसके और अपने मम्मों पर और सुनील की छाती पर उड़ेल दिया. अब रिंकी सुनील के ऊपर मछली की तरह फिसलने लगी. पीछे से प्रिया आई और रिंकी को सुनील की छाती से ऊपर तक फिसलने को कहा और खुद अपने पैरों के तलुओं से सुनील के टट्टे और गांड सहलाने लगी.

दस मिनट की रगड़ा रगड़ी में दोनों ने सुनील का बुरा हाल कर दिया. फिर रिंकी ने सुनील का लंड पकड़ कर जोर जोर से मुठ मारना शुरू किया. सुनील तो हांफने लगा और एक झटके में उसने सारा माल निकाल दिया.

विशाल को भी रिंकी ने बेड पर बुलाया और प्रिया से कहा- तुम विशाल का माल निकाल दो.

रिंकी ने विशाल के लंड पर तेल लगा कर उसकी मालिश शुरू की तो विशाल ने एक बार फिर प्रिया को नीचे लेटाया और उसकी चूत में अपना लंड करके अब वो मछली की तरह फिसलते हुए प्रिया की चुदाई करने लगा. और जल्दी ही उसने प्रिया की चूत को एक बार फिर अपने माल से भर दिया.

तो दोस्तो, यह थी दो दोस्तों और उनकी बीवियों की कहानी. आपको कैसी लगी? मुझे बताइयेगा मेरे इमेल पर!
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top