मेरी बहन और जीजू की अदला-बदली की फैंटेसी-7

(Meri Bahan aur Jiju Ki Adla Badli Ki Fantasy-7)

This story is part of a series:

यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक सोच पर आधारित है, जिसे आप अन्तर्वासना वेबसाइट पर पढ़ रहे हैं.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम राज है और मेरी उम्र 24 साल है. आप सभी ने इस कहानी के पिछले अंक में दो भाई बहनों में चुदाई के लिए अदला बदली की कहानी को पढ़ा था. आपने पढ़ा कि कैसे मैं, मेरी दीदी, मेरे जीजू और जीजू की बहन ने कई दिन एक साथ रह कर ग्रुप सेक्स का मजा लिया था.

अब आपके सामने में इस कहानी का दूसरा अंक लिख कर रहा हूं.

मेरे जीजू की बहन आलिया अमेरिका में अपना पढ़ाई का आखिरी सेम पूरा करने के लिए चली गई थी. मैं अपने डैड को बिजनेस में मदद करने लगा था.

अब सेक्स के विषय पर हम चारों खुलकर बातें करने लगे थे.

उस दिन के बाद मुझे कभी भी अपनी दीदी या उनकी ननद आलिया की चुदाई का मौका नहीं मिला. हम सभी वापस मिलने का इन्तजार कर रहे थे. ये इन्तजार तब खत्म होना था, जब आलिया अपनी पढ़ाई खत्म करके वापस भारत आ जाएगी.

आलिया के आखिरी सेम के एक्जाम चल रहे थे. इधर मैं अपनी गर्लफ्रेंड आलिया के रसीले होंठों को चूमने के लिए तड़प रहा था.

एक रात के करीब दस बजे मुझे दीदी का फोन आया. उस समय मैं अपने कमरे में लैपटॉप पर जरूरी काम कर रहा था. मैं फोन उठाकर दीदी से बात करने लगा.

फोन पर मैंने दीदी का नाम देखा- हां दीदी … कैसे याद किया?
दीदी- बस ऐसे ही सोचा कि अपने भाई को कॉल करूं … क्या कर रहा है?
मैं- लैपटॉप पर जरूरी काम कर रहा हूं.

दीदी- सुन … दो खबरें हैं … एक अच्छी और दूसरी थोड़ी अच्छी, थोड़ी बुरी. पहले कौन सी सुनोगे?
मैं- पहले अच्छी वाली.
दीदी- एक हफ्ते बाद आलिया आ रही है, इसलिए हम सब वापस मिलेंगे. तुम्हारे जीजा जी ने इस बार मालदीव में हमारे सम्मेलन का बंदोबस्त किया है … वो भी एक हफ्ते के लिए.
मैं- अरे वाह … और दूसरी खबर क्या है?

दीदी- तुम नताशा को जानते होगे.
मैं- वो आपकी कॉलेज वाली फ्रेंड.
दीदी- हां … दो दिन पहले वो अकेली मेरे घर पर मुझसे मिलने के लिए आई थी. तुम्हारे जीजा जी ऑफिस गए थे. जब मैं किचन में गई थी, तब गलती से उसके हाथ में वही कैमरा लग गया था. जिसमें हमारी चुदाई वाली वीडियो रिकॉर्ड थी और नताशा ने वो वीडियो देख लिया.

मैं- क्या दीदी … कैमरा संभाल कर रखना चाहिए था.
दीदी- दरअसल हम उसकी अगली रात को वो वीडियो टीवी पर देख रहे थे, इसलिए वो कैमरा वहीं डाइनिंग टेबल पर छूट गया था … और नताशा ने रिकॉर्डिंग देख ली.
मैं- तो अब!

दीदी- फिर मैंने नताशा को सारी बात बता दी. मेरी बात सुनकर वो बजाए मुँह बनाने के खुश हो गई. तुम जीजा-साले के लिए ये अच्छी खबर है … क्योंकि वो भी किसी कपल के साथ अदला-बदली करना चाहती है. बस हमारे लिए थोड़ी बुरी खबर है … क्योंकि हमें अब तीन लंड से चुदना पड़ेगा. मैं और तुम्हारे जीजा जी तैयार हैं … बस तुम दोनों की राय चाहिए.
मैं- मैं तो तैयार हूँ … लेकिन आलिया नहीं मानेगी.
दीदी- वो तुम्हारी गर्लफ्रेंड है. अगर नताशा को चोदना है, तो आलिया को मनाने पड़ेगा. यह काम तुम्हारा है.
मैं- ठीक है.

कुछ देर और बात करने के बाद दीदी ने फोन कट कर दिया और मैंने तुरंत आलिया को कॉल लगा दिया.

मैं- हाई जानेमन.
आलिया- हाई … स्वीटी.
मैं- क्या कर रही हो?
आलिया- एक्जाम की तैयारी कर रही हूं.
मैं- तुम बिजी ना हो, तो तुमसे एक बात पूछनी थी.
आलिया- क्या?
मैं- दीदी का अभी कॉल आया था, वो कह रही थीं कि जीजा जी ने मालदीव में एक हफ्ते के लिए हमारे वेकेशन का बंदोबस्त किया है.
आलिया- हां. … वो भाभी ने कॉल करके बताया था.

मैं- लेकिन हमारे साथ और दो मेम्बर जुड़ेंगे.
आलिया- मतलब?
मैं- दो दिन पहले नताशा तुम्हारे घर पर दीदी से मिलने के लिए आई थी. तब उसने गलती से वो वीडियो रिकॉर्डिंग देख ली.
आलिया- कौन सी वीडियो?
मैं- जो तुमने रिकॉर्डिंग की थी … वो वाली.
आलिया- हां अब याद आया, जिसमें एक बहन अपने भाई के लंड पर सवार होकर चुद रही थी.
मैं- उस रिकॉर्डिंग में तुम भी थीं.

आलिया- अब आगे बता न.
मैं- नताशा भी अपने पति के साथ हमारे साथ जुड़ना चाहती है.
आलिया- क्या!
मैं- हां लेकिन तुम ना बोलोगी, तो मैं दीदी को मना कर देता हूँ.
आलिया- अब तुम तीनों ने सोच लिया है, तो मैं क्या कर सकती हूं. वैसे भी तुम्हें तो और एक चूत चोदने को मिलेगी … बस झेलना तो हमें ही है.
मैं- तुम कहो तो मैं दीदी को ना बोल देता हूं.
आलिया- मैं ना बोलूंगी, फिर भी तुम तीनों मुझे किसी तरह से मना लोगे और वैसे भी नताशा को मैं भी जानती हूँ … वो मेरी भी सहेली है.
मैं- थैंक्स … चल मैं तुमसे बाद बात करता हूं.
आलिया- ओके.
मैं- आई लव यू.
आलिया- आई लव यू टू जान … गुड बाय.

फोन पर बात खत्म हुई और मैं अपना काम करने लगा. नताशा भी उन दोनों की तरह सुंदर और हॉट लड़की है. वो अपने पति के साथ मुंबई रहती है. करीब चार महीने से मैं चुदाई के लिए तड़प रहा था. वैसे इन चार महीनों में मैंने एक बार आलिया के साथ सेक्स किया था, जब मैं अपने काम से अमेरिका गया था.

इस घटना के करीब एक हफ्ते बाद आलिया अपने एक्जाम खत्म करके मुंबई आ गई. जुलाई महीने की दस तारीख को हम मालदीव जाने के लिए फ्लाईट में बैठने वाले थे. मैं दस तारीख को दिल्ली से मुंबई आ गया. फिर शाम के पांच बजे हम सभी ने मुंबई एयरपोर्ट से फ्लाईट पकड़ ली.

मैं करीब सात महीने बाद नताशा और उसके पति आकाश को देख रहा था. इस समय तीनों को देखकर मेरा मन डोल रहा था. लेकिन कहते हैं न कि इन्तजार का फल मीठा होता है.

हम करीब 8:30 बजे मालदीव पहुंच गए. वहां जीजा जी ये सारा बन्दोबस्त कर लिया था. हम टैक्सी से जीजा जी के द्वारा बुक किये हुए होटल में पहुंच गए.

ये समुद्र के किनारे एक पेन्ट हाउस किस्म का रिसॉर्ट था. उसमें ही हम सभी के रुकने का बंदोबस्त किया था. इस जगह पर हमको अपनी मर्जी का खाना आदि बनाने का बन्दोबस्त करना था. दरअसल हम नहीं चाहते थे कि कोई बाहरी आदमी मतलब वेटर वगैरह, हम लोगों के बीच आए.

वैसे तो मैं यहां पर कई बार आया था, लेकिन आज पहली बार कुछ अलग सी फीलिंग आ रही थी, जिसकी वजह आप सभी जानते हैं.

हम सब पेन्ट हाउस के पहुंच गए. ये दिखने में एकदम मस्त जगह थी … पास में ही समुद्र का किनारा था.

अब कहानी में आगे बढ़ने से पहले आप एक बार सभी का परिचय जान लीजिएगा.

मैं- उम्र 24 साल, सुंदर, हैंडसम, स्टाइलिश अंदाज.
आलिया- जीजा जी की बहन और मेरी गर्लफ्रेंड, उम्र 25 साल, हॉट फिगर, सुंदर, कातिलाना स्माइल, स्टाइलिश अंदाज.
दीदी- नाम चित्रा, उम्र 30 साल. अविनाश की बीवी और मेरी बहन. दिखने में सुंदर, हॉट फिगर, नशीली आंखें, मॉडर्न माल.
जीजा जी- नाम अविनाश, उम्र 30 साल, दिखने में सुंदर और हैंडसम. जीजा जी का मुंबई में खुद का बिजनेस है.
आकाश- उम्र 31 साल, दिखने में जीजा जी की तरह सुंदर हैं. जिसका मुंबई में एक छोटा सा बिजनेस है और अपनी इधर वो अपनी फैमिली के साथ रहते हैं.
नताशा- उम्र 30 साल, आकाश की बीवी, दिखने में हॉट फिगर, सुंदर, सुनहरे बाल, नशीली आंखें.

दीदी- आप तीनों मर्द फ्रेश हो लो, तब तक हम लेडीज खाना बना लेंगी.
जीजा जी- ओके.

हम तीनों फ्रेश होने के लिए अपने कमरे में चले गए. हम सब फ्रेश होकर नाइट सूट जैसे कपड़े पहनकर बाहर आ गए. तब तक खाना भी बन गया था और हम साथ मिलकर खाना खाने लगे. खाना खाते समय हम इधर-उधर की बातें करने लगे और एक दूसरे तरफ देखकर मुस्करा रहे थे.

खाना खाने के बाद हम तीनों मर्द बाहर समुद के किनारे बैठ गए और तभी वो तीनों साथ में पीने के लिए स्कॉच लेकर आ गईं. उस तीनों में से दीदी के हाथ स्कॉच थी, आलिया के हाथ में गिलास और नताशा के हाथ में बर्फ थी. वो तीनों इस समय कमाल की सेक्सी लग रही थीं.

हम साथ मिलकर बैठ गए थे. दीदी सबके लिए पैग बनाने लगीं. हम सभी ने साथ में चियर्स करके पैग लगाने शुरू कर दिए.

आसामान एकदम खुला सा था, समुद्र एकदम शांत था. यहां पर हमें डिस्टर्ब करने वाला भी कोई नहीं था. हम सभी मजे से ड्रिंक्स कर रहे थे. सिगरेट का मजा भी चल रहा था.

दीदी- नताशा तुम एक्साइटेड हो न?
नताशा- बहुत ज्यादा.
जीजा जी- चलो हमारे ग्रुप में दो मेम्बर और जुड़ गए.

हम इधर-उधर की बातें करते हुए ड्रिंक्स ले रहे थे. हम एक के बाद दूसरा पैग लगाने लगे.

अविनाश- आकाश इससे पहले कभी स्वैपिंग की है.
आकाश- नहीं, यह पहली बार है.

मैं- जीजा जी, एक बात समझ नहीं आ रही कि जब शादी हो गई. उसके बाद लोग अदला-बदली की क्यों सोचते हैं?
जीजा जी- वो क्या है न … शादी के बाद मर्द एक चूत चोदकर बोर हो जाता है और उसे किसी नई चूत की तलाश रहती है … ऐसा ही हाल औरतों का भी होता है.
दीदी- शटअप … सबसे पहले तुम मर्द ही ऐसा सोचते हो.
नताशा- फिर ये मर्द ही हमें उसके लिए मनाते हैं … और हमें उसकी तलब लगाते हैं.

आलिया- सभी मर्द ऐसे ही होते हैं. बस उसको चूत चोदने मिलनी चाहिए.
मैं- औरत हो या मर्द … सेक्स की जरूरत दोनों को होती है.
दीदी- नताशा तुम दोनों नए हो, इसलिए चलो बताओ … तू आज की रात किसके साथ बिताएगी?
नताशा स्माइल करते हुए- राज के साथ.

उसकी बात सुनकर दीदी ने हल्की सी स्माइल पास कर दी.

नताशा- क्या हुआ, चित्रा तुम मुस्करा क्यों रही हो?
आलिया- वो तुम्हें कमरे में पता चल जाएगा.
जीजा जी- आकाश आज तुम्हारी बीवी की अच्छी तरह से बैंड बजेगी. वैसे तुम किस के साथ सोना पंसद करोगे, मेरी बीवी के साथ … या मेरी प्यारी बहना के साथ?
आकाश- चित्रा के साथ.

तभी दीदी आकाश को देखकर मुस्करा दीं और उसके बाद हम सभी अपना पैग खत्म करने लगे. पैग खत्म होते ही जीजा जी ने मुझे इशारा कर दिया.

जीजा जी- सुनो प्रोटेक्शन सभी के कमरे के ड्रावर में रखे हैं.
मैं- वाह जीजा जी … आपने तो बहुत अच्छा बन्दोबस्त किया है.

जीजा जी ने मेरी बात पर हंसते हुए अपनी बहन यानि आलिया को गोद में उठा लिया और उसे चोदने के लिए वे बड़े हॉल वाले कमरे के अन्दर ले गए.

मैंने मस्ती में आकाश से कहा- जीजा जी, मैं आपकी बीवी को ले जा रहा हूँ … आप मेरी बहन का अच्छे से ख्याल रखना.
आकाश ने भी नशे में हंसते हुए कहा- हां साले साब, अपनी बहन की अच्छी तरह से चुदाई करना.

नताशा मेरी दीदी की बेस्ट फ्रेंड हैं इसलिए मैंने मजाक में आकाश को जीजा जी कह दिया. फिर मैं नताशा को उठाकर हॉल वाले कमरे में ही ले गया और आकाश, मेरी चित्रा दीदी को उठाकर हॉल में पड़े सोफे पर ले गया.

आज हम अपने पार्टनर चुनकर पूरी रात चुदाई का मजा लेने वाले थे. इधर मैं आकाश की बीवी को चोदूंगा, तो उधर वो मेरी दीदी को चोदेंगे. मैंने देखा कि पलंग के दूसरी तरफ जीजा जी ने तो अपनी बहन आलिया को नंगी भी करना भी शुरू कर दिया था.

नताशा और मैंने एक दूसरे तरफ को वासना से देखते हुए किस करना शुरू कर दिया. हम दोनों एक दूसरे के होंठों ऐसे चूस रहे थे मानो एक साल से दूर हों. तभी नताशा ने मेरी टी-शर्ट निकाल दी मैंने भी उसकी टी-शर्ट निकाल दी.

मेरे सामने उसकी ब्लैक रंग की ब्रा और उसमें छुपे 34B साइज के चूचे फंसे हुए दिखने लगे. मैं नताशा के होंठों पर किस करते हुए उसकी गांड को सहलाने लगा.

उधर जीजा जी ने और आलिया, दोनों ने एक दूसरे की टी-शर्ट निकाल दी थी. फिर जीजा जी ने अपनी बहन आलिया की ब्रा भी उतार दी. वो पीछे से अपनी बहन के मस्त मम्मों को दबाने लगे थे. आलिया अपने भाई की हरकतों से गरम होकर कामुक आवाजें निकालने लगी थी.

उधर आकाश और दीदी दोनों रोमांस में मशगूल थे … आकाश की टी-शर्ट उतर चुकी थी. मैंने भी नताशा को घुमाकर उसकी ब्रा निकाल दी और उसके कातिलाना मम्मों को दबाने लगा. नताशा मदहोशी की हालत में सीत्कार कर रही थी. नताशा के दोनों हाथ मेरे हाथ पर थे.

दोस्तो, चुदाई का मजा अभी और भी आना बाकी है. इस मस्त सेक्स कहानी को अगले भाग में आगे पूरे विस्तार से लिख कर आपके नीचे वाले आइटम गरम करूंगा. तब तक आप मुझे मेल कीजिएगा.
[email protected]
फैंटेसी कहानी जारी है.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top