जवानी में चुदाई की भूख-2

(Jawani Me Chudai Ki Bhookh- Part 2)

जवान लड़की की सेक्स स्टोरी के पहले भाग
जवानी में चुदाई की भूख-1
में आपने पढ़ा:

सपना की अन्तर्वासना शांत नहीं थी पर यश की एक बार आग बुझ कर फिर से जग गई। सपना घर चली गयी और यश घर के बाहर आकर खड़ा हो गया और बाहर आती जाती लड़कियों को निहारने लगा। वो नहीं चाहता था हस्तमैथुन कर खुद को शांत करे। बस बाहर किसी चिड़ियाँ की तलाश करने लगा।

इधर सपना रास्ते में बस लंड की कल्पना में खोई हुई थी। उसके दिमाग में बस चुदाई बस गई थी।

अब कहानी गतांक से आगे:

सपना के मन में बस लंड की चाहत उठ गई थी। सपना को पहले सेक्स का इतना ज्ञान न था पर कहते हैं कि जब जिस्म में सेक्स की आग लगती है तो भूख बड़ी जोरों से लगने लगती है और समझ अपने आप आ जाती है। यहीं हाल इस वक्त सपना का था। उसकी चूत अब भूखी शेरनी की तरह फुंकार मार रही थी और कह रही थी जोर जोर से चोद दे।

उधर यश भी भूखा शेर हो गया था वापस और गेट पर गिद्ध की तरह नज़र लगाये बैठ गया। सपना ऑटो में बैठ घर की ओर चल पड़ी पर ऑटो में बैठे बैठे वो चूत चूत को रगड़ रही थी और बिन पानी के जैसे मछली तड़पती है वैसे ही बिना लंड के तड़प रही थी। होंठ को बार बार दांतों तले दबा रही थी। वो भूल गई थी कि वो ऑटो टैक्सी में बैठी है और चूत पर हाथ लगा कर सिसकारियाँ ले रही थी।

ऑटो चालक जिसका नाम अजय वो ये सब शीशे में देख रहा था। अजय एक 22 साल का नौजवान है जो पढ़ाई के साथ ऑटो चलाकर अपना घर खर्च चला रहा था। अजय भी यश की तरह हट्टा कट्टा नौजवान, बस यश की तरह हैंडसम नहीं था।

अजय को लगा कोई परेशानी है सवारी को, वो बोल पड़ा- क्या हुआ मेडम? आपको कोई तकलीफ है क्या?
सपना के मुंह से अन्यास ही निकल पड़ा- लंड चाहिये मुझे।
उस वक्त सपना चुदाई में ज्यादा ही खो गई थी और उसे होश नहीं वो बोल क्या रही है।

उधर अजय ने जब ये सुना तो दिमाग चकरा गया। अजय ने पहले कभी सेक्स नहीं किया तो उसे भी लगा मुझे तो आज चूत मिलेगी ही।
“मेडम मैं कुछ मदद करूँ आपकी?”
“मुझे चुदना है अभी, मेरी चूत में आग भड़क रही है, अगर मदद कर सकता है तो मेरी चूत की कर दो।”

अजय को लगा जरूर कोई वेश्या है जो आज ग्राहक न मिलने के कारण तड़प रही है। पर कई मुझे एड्स हो गया तो। पर चूत जब सामने हो तो बाकी किसी चीज का खौफ नहीं होता।
“मेडम जी, मैं चोद सकता हूँ क्या आपको?”
“मुझे कोई भी चोद लो, पर बस आज मैं चुदना चाहती हूँ।”

पहली बार सपना को चुदाई की भूख लगी और ऐसी लगी की उसे न होश है न ख्याल।
अजय सपना को ले जंगल की ओर चल पड़ा और सुनसान सी जगह देख ऑटो रोक दिया और ऑटो से उतर कर वो पीछे की ओर आ गया।

“मेडम जी, कहीं आपको एड्स तो नहीं ना?”
“अबे चोद मुझे, मैंने पहले कभी चुदाई नहीं की। मेरा यार गांडू निकला, मेरे अंदर हवस की आग भर कर मुझे घर से निकाल दिया। अब मुझे नहीं पता आज मैं चुद कर ही घर जाऊँगी। तेरे में जितना दम हो मुझे चोद और तुझसे न हो तो किसी और को बुला पर मेरी चूत की आग शांत कर।”

अजय ने सोचा ‘ये कैसी बला है.’
और उसने देर न करते हुये अपने दो दोस्तों को फोन कर सारी बात बता दी और उन्हें वहीं आने को बोल दिया। अजय ने सोचा अगर मैं फेल हुआ तो बाकी दोनों तो मंझे हुये खिलाड़ी हैं।

अजय ने देर न करते हुये और सुनसान जगह की सोच कर सपना को बाहर निकाल झाड़ियों के पीछे ले गया और उसकी लेगी खोल अपना खड़ा पाँच इंच का लंड चूत में डालने का प्रयास करने लगा।

सपना का भी पहला सेक्स था और अजय का भी। बड़ी जुगत कर अजय ने सफलता पाई और सपना की चूत में पहली बार लंड प्रवेश हुआ। चूत सील टूट चुकी थी और इस हवस की आग में सपना सील भंग का दर्द भी सह गई और उसे ये दर्द मीठा अहसास देने लगा।

अजय को आज सील युक्त चूत मिली उसने ये सपने में भी नहीं सोचा था कि इतनी सुंदर लड़की उससे चुदेगी। अजय की हाईट सवा पाँच फीट होने के कारण वो उसके सीने तक ही रह रहा था। लंड की कसावट की वजह से वो चूत का आनन्द ले रहा था।

सपना को पहली चुदाई का आनन्द आ रहा था और आह आह का आनन्द ले रही थी। कुछ देर पहले सपना मुलायम गद्दे पर चुदने वाली थी वहीं अब झाड़ियों में मिट्टी में गांड टिकाये चुदवा रही थी वो भी एक ऑटो वाले से।

अजय ने एक बार लंड बाहर निकाला और फिर से वापस लंड सपना की चूत में डालने लगा वो दर्द से तड़प उठी वो अपने कूल्हों को हिलाने लगी तो अजय बोला- मेडम जी, बस एक बार थोड़ा सा दर्द होगा फिर जिंदगी भर आप किसी के भी लंड के मजे ले सकती हो।

“आज तो मैं मजे लेकर रहूँगी। जिसको पहली बार चूत दे रही थी उसने तो मुझे ठुकरा दिया पर आज तू मुझे जम कर चोद।”
“मेडम जी आप आज की चुदाई कभी नहीं भुलोगी। आज आपकी ऐसी चुदाई होगी कि आप हर पल याद रखोगी।”

अजय जोर जोर से लंड चूत में पेलने लगा।
सपना बुरी तरह चिल्ला उठी- हाय मार डाला!

अजय कुछ देर रुक गया, थोड़ी देर में उसने अपने कूल्हे हिलाने शुरू कर दिये तो अजय समझ गया कि अब दर्द कम हो रहा है बस फिर वो अपने लंड को हिलाने लगा। सपना की चूत में अजय का लंड टकराने लगा। वो कस कस कर चोद रहा था और सपना लंड का स्वाद लेने लगी।

पाँच मिनट तक अजय उसकी चूत को अपने लंड चोदता रहा। अब सपना भी पूरे मजे ले रही थी। पर अजय ज्यादा देर न टिका और पानी सपना की चूत में छोड़ दिया। पर सपना की प्यास अधूरी थी और वो कहने लगी चोद यार चोद। पर अजय का लंड तो लटक कर बाहर आ चुका था। पर किस्मत अच्छी थी उसी वक्त उसके दोनों दोस्त आ गये और सपना पर टूट पड़े।

सपना को नहीं पता था उसके साथ अब ये भी होने वाला था। पर सपना की चुदाई की इच्छा भी थी और उसे ये सब इस तरह नहीं चाहिये था। अजय के दोनों दोस्त सपना को चूसने लगे और एक सपना का टॉप निकाल दिया तो दूसरा लंड को खड़ा करने लगा।

अजय अपना काम से फ्री होकर बाहर ऑटो में आकर बैठ गया।

उधर अजय के दोस्त अब सपना की चुदाई के लिए तैयार हो गये।

और सपना का लवर यश सोच रहा था काश सपना को मैं आज चोद पाता। पहली बार तो वो चुदने को तैयार हुई और ये सब। पर कल उसकी चूत की सील मैं ही तोडूंगा। पर यश को क्या पता था आज उसकी सपना अपनी चूत को भोसड़ा बनाने पर तुली है।

अजय का एक दोस्त जिसका लंड 7 इंच का था तो दूसरे का 6 का। अपने लंड को हवा में फेराने लगे और एक ने सपना के मुँह में लंड घुसेड़ डाला और एक ने सपना की चूत के पास ले गया। यश ने जो वीडियो दिखाया वो ही सब सपना को हकीकत में नजर आने लगा। बस फर्क इतना था उस विडियो में चार मर्द थे और यहाँ पर तीन पर एक चोद कर बाहर बैठ गया।
सपना को ये सब अच्छा लग रहा था.

पर सपना को नहीं पता था आज उसकी चुदाई लम्बी चलने वाली है। पहली चुदाई और वो भी इतने लंड से।

अजय के दोस्त कम नहीं थे और आते वक्त अपने दो दोस्तों को न्यौता दे कर आ चुके थे। जैसे ही 7 इंच वाले लंड वाले ने सपना की चूत पर लंड लगाया तो सपना को अहसास हुआ ये तो उस ऑटो वाले से भी मोटा है।
उसका मन और आनन्दित हो चुका था पर डर भी रही थी।

उस लड़के ने बिना रहम किये झटके से लंड डाला और सपना की आँखों में आँसू आ गये। एक तो पहले ही मुँह में लंड और ऊपर से इतना भारी भरकम लंड। उसकी चीख हलक में रह गई। ताबडतोड़ चुदाई शुरू हो चुकी थी। सपना को आनन्द भी आ रहा था पर घुटन भी हो रही थी कि मैं कैसे कैसे लोगों से चुद रही हूँ।

इतनी देर में अजय के दोस्तों के दो दोस्त और आ गये। अजय ये सब देख डर गया और अपनी टैक्सी लेकर भाग गया। सपना आज गलत हाथों का शिकार हो चुकी थी। अब चार लंड सपना की आँखों के सामने घूमने लगा और विडियो का दृश्य भी नजर आने लगा।

सपना की चूत की भूख शांत हो चुकी थी पर उन चार भूखे शेरों ने सपना को जमकर चोदा। चूत के साथ मुँह तो चोदा ही और साथ में चारों ने सपना की गांड भी मारी। सपना जिसने सपने में नहीं सोचा था कि इस तरह चुदाई होगी।

सपना चिल्लाती रही पर चुदती रही।

वो उन चारों के सामने बिल्कुल नंगी पड़ी हुई थी और कुछ बोल भी नहीं रही थी। सब बारी बारी से उसे चोद रहे थे। एक समय सपना का ये हाल हुआ कि एक लंड मुँह में और एक गांड में और ही समय में चूत में और एक उसके हाथ में।
सपना अब पूरी तरह ब्ल्यू फिल्म की तरह चुद रही थी। सपना आज पूर्ण रूप से खुद को रण्डी समझने लगी।

उधर यश को चूत नहीं मिलने का मलान था। पर उसका नसीब बुरा न था। उसकी कॉलेज की दोस्त शबनम जिससे बहुत बार सेक्स कर चुका था उसे फोन किया और मिलने को बोला।

शबनम में इतना सेक्स था कि यश उसके साथ ज्यादा आनन्द लेता। प्यार तो सपना से करता था पर सेक्स का आनन्द शबनम के साथ ही आता था।

उधर सपना को इतना चोदा गया कि उसके उठने की हिम्मत नहीं हुई। उसने सबके आगे हाथ जोड़ना शुरू कर दिया और बोली- तुम सब जब चाहो मुझे चोद लेना, पर अब मुझे जाने दो।

सबने उसका विडियो बना लिया और बोले- नहीं मिली तो ये सब विडियो ब्ल्यू फिल्म की साईट पर बेच देंगे।

सपना ने कभी नहीं सोचा था चुदाई की भूख मुझे आज रण्डी बना देगी और इस तरह दलदल में फँसा देगी।

उधर यश सपना को भुला शबनम को घर बुला चोदने लगा। शबनम वैसे तो कई बार लंड ले चुकी थी पर उसकी चूत बहुत ज्यादा टाईट ही रहती थी।

यश ने इस बार पहले की तरह खेल बर्बाद नहीं होने देना चाहता था इसलिए उसने शबनम के आने से पहले ही वियाग्रा की एक गोली खा खुद को तैयार कर लिया था।

शबनम को घर के अंदर ले जाकर बेड पर सुला दिया और उसे पूरा नंगा कर दिया। लंड दवाई की वजह से कड़क हो चुका था। लोहे के सरिये की तरह मजूबत।

उसने देर न करते हुये पहले अपने लंड पर तेल लगाया और फिर शबनम की चूत पर तेल लगा उसकी चूत को चिकनी की। और फिर देर न करते हुये लंड को चूत में पेल दिया।
शबनम बोल पड़ी- आज तो क्या बात है इतने भूखे कैसे हो? न फॉर प्ले किया और न ही लंड चुसवाया और न ही चूत चाटी। माजरा क्या है जनाब?

“कुछ नहीं शबनम, बस आज मन सीधे ही चोदने का है और तू फ़िक्र मत कर तुझे संतुष्ट ही करूँगा। ये सब फिर कभी बस इस वक्त लंड चूत के लिए तड़प रहा है।”
“ठीक है तू चोद ले, शबनम तो तेरी है।”

यश ने बिना वक्त गंवाएं अपने मुसल लंड को शबनम की चूत में दे मारा। शबनम चिल्ला उठी। शबनम की चूत चुदने के बाद भी टाईट रहती और इस वजह से उसे हर बार चुदाई में आनन्द ही आता। यश तो भूख शेर की तरह शबनम पर टूट पड़ा और जोर जोर से शॉट मारने लगा।

उधर सपना जैसे तैसे घर आ गई और चूत का बुरा हाल देखकर चुदाई के आगे हाथ जोड़ लिया।
यश शबनम की चुदाई में सपना को सोचने लगा और उसे लगने लगा आज सपना की सील वो ही तोड़ रहा है पर उसे क्या पता सपना की सील आज पाँच मर्दों ने एक साथ ही तोड़ दी और ऐसी तोड़ी की चूत को चूत नहीं भोसड़ा बना दिया है।

यश जोर जोर से लंड से चूत में ठोकर मारने लगा और शबनम के मुँह से हल्की सी कराहने की आवाज निकली- ओह्ह अयीईई
और बोली- जरा आराम से चोद! मैं कोई भागी नहीं जा रही हूँ, जोर से चोदने पर दर्द होता है।

लेकिन यश अपनी धुन में ही उसके चूत पेलता रहा और शबनम जोर जोर से चिल्लाने लगी। शबनम पूरी तरह नंगी होकर चुदवा रही थी। उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था, शायद आने से पहले ही साफ़ कर के आई हो।

शबनम का चेहरा लाल सुर्ख हो गया था और उसके मुँह से सिसकियाँ निकल रही थी- आह्हह्ह … अह्ह … ओह्हह!

इस समय शबनम अपने दोनों हाथ से अपनी चूची मसलने लगी और यश शबनम को चोदते वक्त ही उसके होंठ चूस रहा था। यश इतने जोश में था कि शबनम ने कई बार उसने कहा- जरा आहिस्ता चोदो, मुझे दर्द हो रहा है।

पर यश कहाँ मानने वाला था। एक तो चुदाई की भूख और ऊपर से वियाग्रा की गोली। उसके लंड को मजबूत तोप बनाकर चूत पर गोला दाग रहा था। करीब 20 मिनट लगातार चोदने के बाद यश के पाँव जवाब दे चुके थे पर लंड अभी भी पानी नहीं छोड़ रहा था।

शबनम थक कर चूर हो चुकी थी और यश को हटाने का प्रयास करने लगी पर यश उसे छोड़ने का नाम नहीं ले रहा था। शबनम रोने लगी पर यश का दिमाग चुदाई की भूख में पागल हो चुका था।
अब शबनम थक चुकी थी और तीन बार चूत उसकी पानी का लावा फेंक चुकी थी पर अब उसकी हालत चुदने की नहीं थी। उसने जोर से धक्का लगाकर यश को साइड में कर दिया और उठ खड़ी हुई और बोली- मारेगा क्या मुझे? मुझे नहीं चुदना तुझसे। आज के बाद मुझे कॉल मत करना।

शबनम अपने कपड़े पहने लगी और यश उससे बोलने लगा- लंड को शांत कर दे यार … चूस कर ही कर दे।
पर शबनम ने उसकी एक न सुनी और उसे उसके हाल पर छोड़ कर चली गई।

दो प्रेमी आज चुदाई की भूख के कारण कोरे कागज की तरह रह गये।

जवान सपना की चुदाई की भूख उसे रण्डी बना चुकी थी. और इधर यश चुदाई की भूख में इतना पागल हो गया था कि उसका लंड पानी न छोड़ने के कारण शबनम के दोस्ती तुड़वा चुका था।

सपना भी उसको छोड़ के जा चुकी थी और अब शबनम भी। पर उसकी चुदाई की भूख अभी भी शांत नहीं हुई।

आपको कहानी कैसी लगी दोस्तो? आप जरूर मेल कर बताना!
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top