लॉकडाउन के बाद मिली चूत

(Girlfriend Xxx Chudai Kahani)

अविनाश पटेल 2021-05-14 Comments

गर्लफ्रेंड Xxx चुदाई कहानी में पढ़ें कि मुझे लॉकडाउन में मेरी गर्लफ्रेंड की चुदाई का मौक़ा नहीं मिला. वो जिस्म की आग से भरी बैठी थी. लॉकडाउन खुलते ही वो कैसे चुदी?

दोस्तो, मैं अविनाश अपनी गर्लफ्रेंड Xxx चुदाई कहानी में आपका स्वागत करता हूँ.
पहले मैं आपको अपने बारे में बता देता हूँ. मैं वेल-एजुकेटेड चार्टर्ड अकाउंटेंट और एक बैंक में सीए हूं. हैंडसम हूं, गोरा हूं और मेरे लंड की साइज सात इंच की है.

अब मैं आपको अपनी गर्लफ्रेंड आयुषी का फिगर बता दूं.
आयुषी 5 फीट 5 इंच ऊंची थी. उसके मम्मों की साइज 32 इंच की थी. कमर 30 की और गांड 36 इंच की थी. आयुषी का रंग एकदम दूध से गोरा था, काले बाल थे.

उसे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता था.

आयुषी के परिवार वाले मेरे और आयुषी के दोस्त होने की बात जानते हैं और उसके परिवार वालों को मैं बहुत अच्छा लगता हूं. उसके परिवार वाले तो मुझे अपना दूल्हा बनाने के लिए भी तैयार हैं.

दूल्हा बनने से पहले क्या हुआ, इसकी सेक्स कहानी का मजा लेते हैं, तैयार हो जाइए.

आज की इस सेक्स कहानी के माध्यम से मैं आपका वह भी बताने वाला हूं, जिससे आपके लंड से इतना वीर्य निकलेगा कि आपने सोचा भी नहीं होगा.

आपका लंड चुदाई से भी ज्यादा मजा लेगा और चूत की मालकिन सभी लड़कियों की चूत से पानी की नदियां बहने की शुरू हो जाएंगी.

लड़कियों की चूतों ने कभी इतना पानी नहीं छोड़ा होगा, जितना इस सेक्स कहानी पढ़ने के बाद आपकी चूत में से निकलने वाला है.

कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन में हम दोनों ही सेक्स के लिए तड़प उठे थे. मेरे लंड से पानी बह रहा था … और उसकी चूत मुझे अपना पानी पिलाने के लिए तड़प रही थी.

आखिर वह दिन आ गया, जब अनलॉक हुआ और वह मुझे दूसरे ही दिन मिली.
हमने मेरे एक दूसरे फ्लैट पर जाकर चुदाई करने का प्लान बनाया.

रविवार को दिन में दोपहर एक बजे मैं और आयुषी मेरे दूसरे फ्लैट पर चले गए. ये एक बेडरूम व़ाला फ्लैट है. अक्सर मैं और आयुषी वहां पर पूरे पूरे दिन चूत चुदाई करते रहते हैं.

लॉकडाउन के चलते मैंने इस बार तीन महीने से आयुषी को नहीं चोदा था, तो आज उसकी चूत को चोदने के लिए मैं बहुत तड़प रहा था.
मैंने उसकी चुदाई के लिए पहले से बहुत तैयारी भी कर ली थी.

बेडरूम में जाते ही मैंने आयुषी के रसीले और गुलाबी होंठों पर अपने होंठ लगा दिए.
वो भी मेरे साथ लग गई.

हम दोनों ने दस मिनट तक फ्रेंच किस किया और फिर हम दोनों ने एक दूसरे को ‘आई लव यू ..’ कहा.

चुम्बन के बाद मैं फ्रेश होने के लिए और नहाने के लिए बाथरूम में चला गया.
नहाने के बाद मैं शॉर्ट्स पहन कर बाहर आ गया.

मेरे बाद आयुषी भी फ्रेश होने के लिए बाथरूम में चली गई.
वो जब नहा कर बाहर आई, तो उसने रेड कलर की नाइटी पहनी हुई थी.

रेड कलर की पैंटी … रेड कलर की ब्रा और उसके ऊपर छोटी सी रेड कलर की ही बेबी डॉल पहनी हुई थी.

वो ऐसी लग रही थी, जैसे कोई अप्सरा हो.
मैं उसके पूरे बदन को देखकर वासना से तड़प रहा था.

आयुषी ने पूरे शरीर को वैक्स किया था. उसका पूरा बदन जैसे मखमल और मक्खन जैसा मुलायम था.
मुझे वो अपने शरीर का रसपान करने के लिए निमंत्रण दे रही थी.

आयुषी जैसे आज कामदेवी बन गई थी. उसके 32 साइज के तने हुए चुचे मुझे ब्रा के ऊपर से ही बहुत अच्छे लग रहे थे.

वह मेरे नजदीक आकर मुझे किस करने लगी.

उसके मुँह में से बड़ा ही टेस्टी रस निकल रहा था.
किस करने में इतना मजा आ रहा था कि बस लग रहा था कि उसके मुँह को चूसता ही रहूँ. उसकी रसभरी जीभ को चूसता ही रहूँ. उसके मुँह में से मीठा मीठा रस आ रहा था.

कुछ मिनट किस करने के बाद उसने मेरा शॉर्ट निकालकर मुझे नंगा कर दिया. मेरा खड़ा लंड उसको सलामी दे रहा था.

तीन महीने के बाद वह मेरे लंड को देखकर लंड पर टूट पड़ी.
उसने मेरे लंड को तुरंत अपने मुँह में ले लिया.

लंड उसके मुँह में देते ही मेरी तो जैसे जान निकल गई ‘अहह ..’

वो अपनी जीभ से मेरे लंड को चाटने लगी.
मेरे लंड में से निकलता हुआ पानी वो स्वाद लेते हुए पीने लगी.

मैंने उसके कामुक मम्मों को देखते हुए उसकी बेबीडॉल को निकाल दिया; उसके सख्त चूचों को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा.

फिर मैंने उसकी ब्रा को भी निकाल दिया. उसके दूध आजाद हो गए थे.

यार उसके मम्मे, कोई साधारण मम्मे नहीं थे बल्कि मक्खन मलाई जैसे मुलायम, कमल के फूल से खिले हुए थे.

मैं उसके दोनों मम्मों को दबा रहा था. इधर उसने मेरे लंड को चाट कर पूरा भिगो दिया था. मेरा लंड उसके थूक से चमक रहा था और गीला हो चुका था.

मैंने उसे रोका और उससे कहा- आह … अब रहने दे मेरी जान … क्या तुम मेरे लंड को खा जाओगी?
वह वासना से तप्त एक रांड के जैसी नजरों से मुझे देखते हुए बोली- आज मैं तुम्हारे लंड को तो क्या … आज तो मैं तुम्हें भी कच्चा खा जाऊंगी.

वह बहुत ज्यादा उत्तेजित हो चुकी थी. मैंने उसके मम्मों को चूसना शुरू का दिया था.
वो अपने हाथ से अपने दूध पकड़ कर मुझे पिला रही थी.
मैंने बारी बारी से उसके दोनों दूध खूब चूसे.

फिर मैंने उसे लिटा कर उसकी पैंटी को निकाल दिया.
आह … मेरे सामने उसकी चूत थी. उसकी चूत का मैं क्या वर्णन करूं, मेरे पास शब्द नहीं है.

उसकी चूत पर झांट का एक भी बाल नहीं था. उसने अपनी चूत को भी वैक्स किया हुआ था.
पूरी चूत एकदम गोरी, लाल गुलाबी चूत थी.

ऐसी नमकीन चूत देखकर मेरे सर पर मानो कामदेव सवार हो चुके थे.
मैंने हाथों से उसकी चूत को सहलाया, वहां से पानी की नदी बह रही थी.

मुझे आज इसी पानी की प्यास लगी थी. मैंने तुरंत उस रस बहाती नदी पर अपना मुँह रख दिया … और नदी में से बहता हुआ पानी पीने लगा.

इतना टेस्टी पानी नमकीन पानी था, जिसे आयुषी ने 3 महीनों से मेरे लिए रोक कर रखा था.
उसकी चूत में से चिकना नमकीन पानी निकला जा रहा था.
आयुषी अपनी गांड उठा कर अपनी चूत का पानी मेरे मुँह में दिए जा रही थी.
उस नमकीन शहद को पीकर में तृप्त होता जा रहा था.

थोड़ी देर बाद उसकी चूत में से सफेद मलाई जैसा पानी निकलने लगा. मैं उसे भी खाने लगा था.

आज उसकी चूत को मैं इस तरह से चाट रहा था कि जैसे उसकी चूत मक्खन मलाई निकल रही हो औ मैं उसी मलाई को खा रहा हूं.

मैं उसकी चूत चाटते वक्त उसकी गांड में उंगली भी कर रहा था.
उसकी गांड एकदम गुलाबी थी.

क्या बताऊं दोस्तो, आयुषी जैसी कयामत मेरे नसीब में थी, जिससे मेरा जीवन धन्य हो गया था.

उसकी चूत में से पानी बहना बंद नहीं हो रहा था. न जाने कितना पानी तीन महीनों से उसने मुझे पिलाने के लिए रोक कर रखा था.

फिर मैं आयुषी की आंखों में पट्टी बांधने लगा.

आयुषी मुझसे पूछने लगी- ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- आज मैं तुम्हें स्वर्ग का सुख देना चाहता हूं.

उसकी आंखों पर पट्टी बांधने के बाद मैं पूरा नंगा हो गया. आयुषी भी पूरी नंगी थी.
हम दोनों के नग्न जिस्म कामवासना से ऐसे धधक रहे थे, जैसे आग में कोयला धधकता है.

आयुषी बेड पर नंगी लेटी हुई ऐसे लग रही थी जैसे कोई अप्सरा मेरे लंड से चुदने के लिए रेडी पड़ी हो.
उसकी नंगी सफाचट चूत, मदमस्त गांड, दूध से भरे और तने हुए उसके मम्मे, उसकी फैली हुई चिकनी बांहें और हाथों के अंडरआर्म एकदम चिकने मुझे हद से ज्यादा गर्म कर रहे थे.

मैंने उसे एक नजर भर कर देखा और आयुषी की चुदाई से पहले उसे और मजा देने का प्लान बना लिया.

मैं फ्रिज में से एक लिक्विड चॉकलेट की बोतल निकाल लाया और उस लिक्विड चॉकलेट को आयुषी के पूरे बदन पर टपकाने लगा.

आयुषी अपने जिस्म पर एकदम से ठंडी ठंडी लिक्विड चॉकलेट टपकती महसूस करके सिहर उठी.
उसने मुझसे पूछा- आहा जान, क्या कर रहे हो?

मैंने उसे कुछ भी उत्तर नहीं दिया तो उसने अपने हाथ से लिक्विड चॉकलेट को छुआ और कुछ चिपचिपा सा महसूस करके उसे अपनी जीभ से चख लिया.
स्वाद लेते ही वो समझ गई कि ये लिक्विड चॉकलेट है.

वो इस लिक्विड चॉकलेट के टपकाए जाने से ही समझ गई कि मैं क्या करने वाला हूँ.

उसकी आहें निकलने लगीं और वो मुझसे प्यार से न जाने क्या क्या कहते हुए बड़बड़ाने लगी- ओह माय लव यू आर सो स्वीट … आह मुझे मालूम ही नहीं था कि तुम मुझे मीठी करके चोदने वाले हो.

उसकी जुबान से ऐसे कामुक शब्द सुनकर मेरा लंड बेचैन हो उठा.

मगर मैंने कुछ भी जवाब न देते हुए उसकी चूत में लिक्विड चॉकलेट भर दिया.
मैंने उसे हाथ से पलटाने की कोशिश की तो वो खुद ही औंधी हो गई.

उसकी मखमली गांड में भी मैंने लिक्विड चॉकलेट भर दी. वो फिर से पलट गई तो मैंने उसके मम्मों पर, उसके गालों पर उसकी बगलों में सभी जगह लिक्विड चॉकलेट लगा कर उसे नहला दिया. वो एक लिक्विड चॉकलेट से सनी हुई गुड़िया सी लग रही थी.

फिर मैंने उसके पूरे शरीर पर लगी चॉकलेट को अपनी जीभ से चाटा.
मैं उसके मुँह में जीभ डालकर उसे चॉकलेट का स्वाद दे रहा था.

उसके गालों को चाटा, उसकी नाक, आंख, कान, चुचे, अंडर आर्म और उसकी चूत पर लगी चॉकलेट को मैंने इस तरह से चाटा जैसे आयुषी कोई लिक्विड चॉकलेट से बनी डिश हो.

आज मेरे इस तरह से चाटे जाने से आयुषी वासना में कामदेव की रति बन गई थी.
उसने तो इस चुसाई में ही एक बार अपनी चूत से पानी छोड़ दिया था.

उसकी चूत से इतना पानी निकल रहा था कि उस चूत रस को पीते पीते ही मेरा पेट भर गया था.
मेरे लंड लोहे की रॉड के जैसा पूरा खड़ा हो गया था.

आयुषी अब मुझसे कह रही थी कि अपने लंड को मेरी चूत में डाल दो.

पर मैं उसे तड़पा रहा था.

उसके शरीर पर लगी चॉकलेट को मैंने पूरी तरह चाट कर साफ़ कर दिया.
फिर मैंने उसे फ्रेंच किस किया और उसकी आंखों पर लगी पट्टी को मैंने खोल दिया.

उसने भी मेरे लंड पर चॉकलेट लगाकर मेरे लंड को चूसा और मेरा पानी एक बार निकाल दिया.
वो मेरा पूरा वीर्य पी गई और अपने मुँह में लेकर कुछ वीर्य उसने मुझे भी पिला दिया. मेरे लंड का रस उसने मेरे मुँह में भी डाला. उसके मुँह में से मेरे मुँह में आता हुआ मेरा ही वीर्य … और उसमें मिला हुआ उसके मुँह का रस, मुझे अमृत से कम नहीं लग रहा था.

अब हम दोनों एक बार अपना पानी गिरा चुके थे.

थोड़ी देर आराम करने के बाद आयुषी ने फिर से मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और एक मिनट तक लंड चूस कर वो फ्रिज के पास चली गई.
उसमें से वो आइसक्रीम निकाल कर ले आई.

ठंडी आइसक्रीम मेरे लंड पर लगा कर वो लंड चाटने लगी.
मेरे लंड को चाटती हुई मेरी Xxx गर्लफ्रेंड जैसे वासना की देवी लग रही थी.

आह आह की मादक आवाजों से कमरे का माहौल एकदम से गर्म हो चुका था.

मेरा लंड खड़ा हो गया था और आयुषी की चूत से भी पानी निकल रहा था.

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि दूसरी बार में खेल लंबा चलता है. पहली बार में पानी कुछ ही मिनट में निकल जाता है.
दूसरी बार तो मेरा लंड बैठने का नाम ही नहीं लेता है.

मैं सेक्स में इसी तरह से रोमांटिक सेक्स करना ज्यादा पसंद करता हूं. डर्टी सेक्स मुझे बेहद पसंद है.

आयुषी ने अपनी गांड मेरे मुँह पर रख दी और हम 69 पोजीशन में एक दूसरे के गुप्तांगों को चाटने लगे थे.

कुछ ही देर में अब वो समय आ चुका था, जब मैं अपना लंड आयुषी जैसी मलाई मक्खन जैसी मुलायम चूत में अपना लंड का प्रवेश करा दूं.

आयुषी मेरे ऊपर आ गई और मैं नीचे लेटा रहा.
मेरे लंड को पकड़ कर आयुषी अपनी चूत पर सैट करते हुए मेरे लंड पर बैठ गई.

उसने अपनी चूत से मेरे लंड को संभाल लिया. मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया.

मैं आपको अपना ये अनुभव शब्दों में बता ही नहीं सकता कि मुझे इतना अच्छा लगा कि जैसे मैं स्वर्ग में आ गया हूं.
आयुषी की गर्म चूत में कड़क लंड फंसा हुआ सा था.

जब किसी गर्म और रसीली मलाईदार कसी हुई चूत में कड़क लंड पूरा घुस जाता है, तो मर्द को कितना अधिक मजा आता है, ये आप कभी खुद ही महसूस करके बताना.

आयुषी मेरे लंड के ऊपर गांड पटकते हुए चुदाई करने लगी.
वह इतनी गर्म हो गई थी कि बहुत तेजी से सेक्स करने लगी.

पूरे कमरे में लंड चूत के टकराने से फच फच की आवाज आने लगी.
यह आवाज मुझे बहुत अच्छी लगती है.

पन्द्रह मिनट तक इसी पोजीशन में सेक्स करने के बाद हम दोनों ने खड़े होकर सेक्स किया.
फिर डॉगी स्टाइल में सेक्स किया; काफी पोजिशनों में चुदाई का मजा किया.

आधा घंटे बाद हम दोनों एक दूसरे में समाहित हो गए.

कुछ देर बाद हमारा अगला राउंड फिर से शुरू हो गया. इस तरह से दोपहर एक बजे से चालू हुआ हमारे सेक्स का कार्यक्रम शाम 6:00 बजे खत्म हुआ.

आयुषी मुझे बहुत प्यार करती है और सेक्स में तो वह मुझे और भी ज्यादा प्यार करती है.

अगली सेक्स कहानी में आपको इससे भी ज्यादा रोमांटिक तरीके से लिख कर बताऊंगा कि अगली बार क्या हुआ. उस सेक्स कहानी पढ़कर आपके दिल में इससे भी अच्छा रोमांटिक अनुभव होगा.

मेरी गर्लफ्रेंड Xxx चुदाई कहानी आपको कैसी लगी, यह बताने के लिए मेल जरूर करें. मुझे आपके मेल से प्यार मिलना मेरे लिए बहुत ही आवश्यक है.
मेरी ईमेल आईडी है
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top