चूत चाटने का ख्वाब पूरा हुआ

(Chut Chatne Ka Khwab Poora Hua)

नमस्कार, आदाब! मैं रज़ा आलम उम्र 23 साल मैं एक स्टूडेंट हूँ। एक बार फिर से आपकी खिदमत में हाज़िर हूँ। पढ़ाई के सिलसिले में मैं काफी व्यस्त था इसलिए लगभग दो बरस के बाद फिर से आपकी सेवा करने आया हूँ।

आप सबको बता दूँ कि मुझे शादीशुदा औरतें बहुत पसंद हैं, कोई भाभी या आंटी को मैं देखता हूँ तो मेरा लण्ड खड़ा हो जाता है जबकि लड़कियों को देखने पर ऐसा नहीं होता। मेरी कल्पना सिर्फ आंटी और भाभी के लिए ही होती है।

आपने मेरी पहले वाली कहानी
बड़ी बहन के साथ सुहागरात
पढ़ कर जरूर मज़े लिए होंगे, जिसने नहीं पढ़ी है वो मेरी पिछली कहानी पढ़ कर चरम सुख को प्राप्त कर सकता है.
मेरी पिछली कहानी पर मुझे बहुत से मेल प्राप्त हुए जिनको पढ़ कर मुझे बहुत खुशी हुई। उस प्यार के लिए आप सब का मैं बहुत आभारी हूँ।

अब समय बेकार ना करके मैं सीधे कहानी पर आता हूँ जो सिर्फ एक काल्पनिक कहानी है या यूं कहूँ तो मेरा एक अधूरा और हसीन ख्वाब भी है। अगर कहानी लिखने में कोई गलती हो जाए तो माफ करियेगा।

कोई भी लेखक एक कहानी लिखने के लिए बहुत मेहनत करता है और आप लोगों से सिर्फ थोड़ा सा प्यार ही चाहता है, अब मैं अपने ख्वाब की कहानी आपको सुनाता हूँ।

वो ख्वाब जिसे मैं पूरा करना चाहता हूं, वो ख्वाब है मेरा चूत को चाटने का!
ये मेरी हसरत कैसे पैदा हुई?
मैं पोर्न मूवी का कुछ दिन से ज्यादा ही शौकीन हो गया हूँ। जिसे देख देख कर अब मुझे भी चूत चाटने की बहुत ख्वाहिश है। उसी कल्पना को मैंने अपने शब्दों में पिरोया है।

यह कहानी है मेरी और एक अनजान औरत की या यूँ कहें तो एक हुस्न की मल्लिका की है। मैं एक स्टूडेंट हूँ और कॉम्पिटिशन क्लास की तैयारी कर रहा हूं। आप सबको तो पता ही होगा कि ये एक्जाम अपने शहर से काफी दूर होते हैं। इसलिए काफी दूर-दूर तक भी जाना पड़ जाता है।

पिछले दिनों मेरा एक पेपर लखनऊ से कुछ दूर बाराबंकी में था मेरे और दोस्तों का पेपर भी था. लेकिन लक बाई चांस कहें या कुछ भी उन सबका लखनऊ में ही था.

तो मैं अपने दो दोस्तों के साथ सुबह ही घर से तैयार होकर बस से निकल लिया.

जून का महीना था इसलिये गर्मी बहुत ही ज्यादा थी। इसलिए मैं सिर्फ एक हल्की टी शर्ट और जीन्स ही पहन कर घर से निकला था. हम लोग 11 बजे लखनऊ पहुँच गए पेपर का टाइम 2 बजे था इसलिए मैं अपने दोस्तों को बाय बोलकर बाराबंकी की बस पकड़ने निकल लिया।

जब बाराबंकी की बस की तरफ गया तो देखा उसमें बहुत ही ज्यादा भीड़ थी सारी सीट पहले ही बुक हो चुकी थीं और बहुत से लोग खड़े भी थे।

मुझे पेपर के लिए लेट हो रहा था इसलिए मैं ना चाहते हुए भी उस बस में चढ़ गया। जब बस में चढ़ा तो खड़े लोगो से बस भरी हुई थी.
मेरे चढ़ते ही बस चलने लगी. और बहुत से लड़के जो शायद पेपर ही देने जा रहे थे मेरे पीछे आकर खड़े हो गए जिसकी वजह से मुझे बस में आगे की तरफ बढ़ना पड़ा।

जब मैं आगे की तरफ बढ़ा तो मेरी नज़रें अचानक से रुक सी गयीं, मैंने देखा कि कोई एक कातिलाना फ़िगर की कोई मालकिन आंटी कहें या भाभी खड़ी थी. लेकिन मैं सिर्फ अभी उनको पीछे की तरफ से ही देख पाया था लेकिन पीछे से देख कर ही मुझे अंदाजा हो गया कि ये औरत अच्छे अच्छों के लंड खड़े कर सकती है।
उठी हुई गाण्ड … उफ्फ!

खैर मैं अभी उस औरत से थोड़ी सी दूरी पर ही था लेकिन उसके शरीर की महक मुझे अपनी और आकर्षित कर रही थी।

तभी एक स्टॉप पर बस रुकी और कुछ भीड़ और ज्यादा बढ़ गयी जिस कारण मुझे थोड़ा धक्का सा लगा और मेरा और उस औरत का एक हल्का सा स्पर्श हो गया जिसकी वजह से उसने मुझे मुड़ कर देखा और हल्के से गुस्से वाले अंदाज में आँखें दिखाई।

लेकिन मैंने इशारे में ही कहा कि पीछे से धक्का लगा है. तो उसने हल्की सी स्माइल दी और फिर आगे की तरफ अपना चेहरा कर लिया।
लेकिन उसका चेहरा देख कर अंदाजा हो गया कि आंटी की उम्र 40 के आस पास होगी.

लेकिन उन्होंने अपने आपको इतनी अच्छी तरह से सँवारा था कि वो बिल्कुल एक नयी नवेली दुल्हन की तरह लग रही थी।

वो मोटी-मोटी आँखें, दूध सा गोरा चेहरा, टमाटर जैसे गाल और पतले पतले सुर्ख लाल लिपस्टिक से रंगे हुए होंठ और बहुत कड़क से लग रहे थे. उसके लगभग 34″ के चूचे, उठी हुई गाण्ड, मैं तो देखकर ही मदहोश सा हो गया।
काश इस औरत को चखने का मौका मिल जाए तो जिंदगी सफल हो जाए।

खैर भीड़ की वजह से अब मैं उस आंटी से बिल्कुल चिपक कर ही खड़ा था. जैसे जैसे बस में ब्रेक लगती तो मैं आंटी की गाण्ड से हल्का सा छू जाता. उफ्फ … क्या मस्त गान्ड थी यार!

जब बार बार मैं उससे रगड़ रहा था तो अब शायद उसको भी मज़ा आ रहा था। तभी वो भी कुछ नहीं बोल रही थी.
मैं इस बात का फायदा उठाना चाहता था लेकिन फिर डर भी रहा था कि कहीं वो कुछ कहने ना लगे तो मेरी तो इज्ज़त के तो लौड़े लग जाएंगे।

लेकिन अब मेरी हिम्मत बढ़ती जा रही थी और मुझे पता भी नहीं चला कब मेरे हाथ मेरे काबू से बाहर होने लगे थे।

मेरे हाथों पर से ही मेरा कंट्रोल ख़त्म होता जा रहा था और मेरा हाथ उसकी साड़ी के ऊपर से ही उसके चूतड़ों को सहलाना चाह रहे थे. फिर एकदम से मैंने हाथ उसकी जाँघ पे रख दिया.

उसकी सिल्क की साड़ी और उस साड़ी में वो ‍मखमली बदन … जैसे ही मैंने हाथ रखा मेरे तो लंड में बढ़ोतरी सी होने लगी. जिस वजह से मैं थोड़ा हॉट मूड में आ रहा था. लेकिन मुझे जरूरत थी तो उस अनजान आंटी के साथ की।

वो आंटी भी बहुत मुझे बहुत दिनों की प्यासी लग रही थी. शायद आज मेरी किस्मत साथ देने वाली थी तभी तो जब मैंने हाथ उसकी जाँघ पर रखा तो उसने मुझे कुछ ना बोला. जिससे मेरी हिम्मत तो बहुत ज्यादा ही बढ़ गयी.

अब मैं उसके चूतड़ों की हल्के हाथ से मालिश भी करना चाह रहा था।

अब मैं उनके जिस्म को अपने कब्जे में लेना चाहता था। आंटी को भी शायद अब मज़ा आने लगा था अभी मेरे हाथ उसकी चिकनी जाँघ पर ही थे. अब मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था मैं उसकी गांड की हाथों से मालिश करना चाहता था.

अचानक ड्राइवर ने ब्रेक मारी तो बस की ब्रेक जैसे ही लगी तो मेरे हाथों की गाड़ी स्टार्ट सी हो गई और सीधे उसके फूले हुए चूतड़ मेरे हाथ में आ गए. मैंने आंटी के चूतड़ ज़ोर से दबा दिए जिससे आंटी चौंक सी गयी और उसकी आवाज़ आह‍हह करके निकल गई।

लेकिन वो कुछ भी नहीं बोली. आंटी ने मेरी तरफ देख कर अपने होंठों को अपने दांतों में दबा लिया. शायद मेरा उसके चूतड़ों को दबाना बहुत अच्छा लगा. तभी वो मेरा साथ देना चाहती थी।

यह मेरे लिए ग्रीन सिग्नल की तरह था. अब तो मुझे क्रिकेट की फ्री हिट की माफिक आज़ादी मिल गयी. अब मेरा लंड और ज्यादा टाइट होने लगा था।

आप लोग तो जानते ही होंगे 23 की उम्र में कैसी चाहत होती है चूत की! कि बस मिल जाए एक बार!
और फिर ऐसी रस भरी जवानी की कोई आंटी मेरे इतने करीब हों तब तो ना इंसान संभल सकता है और ना उसका लण्ड!

आंटी भी अब मूड में आती जा रही थी. गर्मी की वजह से मेरे और आंटी दोनों के बदन में पसीना टपकने लगा था. चेहरे से होते हुए पसीना आंटी के ब्लाउज से होता हुआ उनकी की ब्रा में जा रहा था।
पसीने वजह से हम दोनों ही पूरी तरह से भीग चुके थे।

लेकिन तभी कंडक्टर की आवाज आई- उतरो उतरो सब लोग … बस यहीं खाली होगी.
मैंने पूछा तो उसने बताया कि बस अड्डे नहीं जाएगी बस! आगे जाम बहुत है, सबको यहीं उतरना पड़ेगा।

यह सुनकर तो जैसे मेरे अंदर से पूरा जोश ही निकल गया. यार इतना मज़ा आ रहा था!

फिर मैंने जल्दी से हाथ उसकी गांड से हटाया और नीचे उतरने लगा. लेकिन मेरी नज़रें उस अनजान औरत को ही घूरे जा रही थी।
और वो आंटी भी चुपके चुपके मेरी तरफ देख रही थी. शायद मेरी तरह उसकी भी प्यास अधूरी ही रह गई थी.

अब सब लोग बस से नीचे उतर कर बाराबंकी शहर की तरफ चलने लगे. मैं उस हुस्न की मल्लिका के पीछे ही थोड़ी दूरी पर चल रहा था. मेरा लण्ड अब भी थोड़े मूड में था।

मैं उसके पास ही चल रहा था लेकिन कुछ बोलने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी.

तभी वो आंटी अचानक से रुकी और मेरे पास आकर बोली- कहाँ रहते हो तुम?
यह सुनकर तो मेरी ख्वाहिश ने फिर से जन्म सा ले लिया। मैं बोला- मैं इस शहर का नहीं हूँ. यहां मेरा एक्जाम है, वही देने आया हूँ.

तो आंटी बोली- कितने बजे है पेपर?
मैं बोला 2 बजे से 5 बजे तक!

आंटी मेरे साथ साथ ही चल रही थी और बातें भी करती जा रही थी जैसे कि मैं उनके साथ ही हूँ।

फिर आंटी बोली- पेपर के बाद क्या कर रहे हो?
मैंने बताया- घर वापस चला जाऊंगा.
आंटी ने कहा- बहुत रात हो जाएगी घर पहुँचते पहुँचते!

उन्होंने एक कागज निकाल कर उसपर अपने घर का एड्रेस लिख दिया और बोली- अगर चाहो तो मेरे यहाँ रुक सकते हो, मैं अकेली ही रहती हूँ।
इतना सुनकर तो मेरी खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा.
और आंटी वही से ऑटो पकड़ कर अपने घर की तरफ चल दीं.

अब मैंने घड़ी की तरफ देखा तो टाइम 1 के ऊपर हो चुका था. अब मुझे अपना एक्जाम सेंटर भी ढूंढना था.

मैंने एक ऑटो वाले को रोका और अपना एडमिट कार्ड दिखा कर उसी स्कूल चलने को बोला।

मेरे मन में अभी भी उसी आंटी का ख्याल ही बार बार आ रहा था कि जल्दी से शाम हो फिर शायद मेरी ख्वाहिश मुकम्मल हो जाए.

2 बजे एक्जाम शुरु हुआ, जैसे तैसे मैंने वो तीन घंटे गुजारे और एक्जाम हाल से बाहर आकर एक चैन की साँस ली.

फिर मैंने वो पर्ची बैग से निकाली और हाथ में पकड़ कर ऑटो के करीब गया। ऑटो वाले से पूछा- यह एड्रेस यहां से कितनी दूर है और कितने पैसे लोगे?
उसने पूछा- अकेले हो?
मैंने कहा- हाँ!

तो वो बोला- दूर है यहाँ से, बुकिंग पे जाएगा ऑटो, 150 रुपये लगेंगे.
मैंने कहा- ठीक है, चलो!

मेरी आँखों में तो वही बस वाला ही लम्हा आए जा रहा था कि कैसे मैं आंटी के इतने करीब था यार!
पूरे रास्ते मेरे दिल में सिर्फ और सिर्फ आंटी ही का ख्याल रहा. तभी ऑटो वाले ने ऑटो रोक के कहा- इस गली के अंदर ऑटो घूम नहीं पाएगा, आपको यहीं उतरना पडे़गा.

उतर कर मैंने उसको रुपए दिए और गली में आ गया. मैंने देखा कि उस गली में बहुत अच्छे अच्छे मकान बने थे.
मैंने पर्ची पर देखा तो मकान नंबर 12 था. मैंने जाकर देखा, दरवाजा बंद था और बेल लगी थी. मुझे थोड़ा डर भी लग रहा था कि कही आंटी ने मज़ाक ना किया हो, ये किसी और का घर हो।

लेकिन फिर आंटी का वो आग लगा देने वाला फ़िगर मुझे याद आ गया. मैंने थोड़ी हिम्मत करके एक बार बेल बजाई लेकिन कोई आवाज नहीं आई.
फिर जैसे ही दोबारा बेल बजानी चाही, दरवाजा हल्का सा खुला.
तो मैंने देखा उफ्फ … वही आंटी भीगे हुए बालों में पिंक कलर की साड़ी और उसके अंदर ब्लैक कलर का लो कट वाला ब्लाउज पहने हुए मेरे सामने आयी. उनके दूध से भी सफेद गोरे गोरे चूचे जो क्लीवेज में दिख रहे थे, देख कर मेरा तो दिल ज़ोर ज़ोर से धड़‍कने लगा.

वो बोली- अंदर आ जाओ।

मैं डर डर के अंदर जाने लगा तो वो बोली- डरो मत, यहां कोई भी नहीं है.
और उन्होंने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया।

आंटी बोली- तुम्हें आने में तकलीफ तो नहीं हुई? और कैसा हुआ तुम्हारा पेपर?
मैंने कहा- ठीक हुआ!

वो बोली- जाओ फ्रेश हो लो, तुम पसीने में भीगे हुए हो.
मैंने बताया- मेरे पास कपड़े नहीं हैं चेंज करने के लिए!
वो बोली- रुको, मैं देती हूँ!

वो रूम से एक लोअर और एक हल्की सी टीशर्ट ले आयीं जिसे लेकर मैंने बाथरूम में जाके चेंज कर लिया।

आंटी बोली- तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है?
मैंने बोला- नहीं!
वो बोली- क्यूँ?
मैंने कहा- मुझे लड़कियां नहीं, औरतें पसंद हैं आपकी जैसी!

वो मुस्कुराईं और बोली- मुझे बना लो फिर अपनी गर्लफ्रेंड!
मैंने कहा- बनाने तो आया हूँ! और आपके घर में कौन कौन है?
आंटी बोली- एक बेटा है, वो लखनऊ में हॉस्टल में रहता है और हसबैंड बिज़नस के सिलसिले में ज्यादातर बाहर ही रहते हैं.

मैंने कहा- आप इतनी खूबसूरत हैं और इतनी सेक्सी भी! आपका दिल नहीं करता कि कोई आपको रोज प्यार करे?
आंटी बोली- करता तो बहुत है. लेकिन मैं अपने पति को धोखा नहीं देना चाहती!
तभी मैंने कहा- इसमें धोखा कैसा? इंसान की ये भी एक जरूरत है।

वो मुस्कुराईं और बोली- हां पगलू!
और वो मुझसे बोली- तुम टीवी देखो, मैं खाना बनाने जा रही हूँ। बताओ तुम्हें खाने में क्या पसंद है?
मैंने झट से बोल दिया- आप!
आंटी बोली- अच्छा खा लेना!
और इतना बोल के मुस्कुरा के किचन में चली गईं।

मैं टीवी तो देखने लगा मगर मेरे मन में सिर्फ आंटी का ही ख्याल बार-बार आ रहा था।

मुझसे रहा नहीं जा रहा था, मेरे कदम अब रसोई की तरफ बढ़ने को मजबूर हो रहे थे कि ऐसा मौका कहाँ मिलेगा मुझे।
मैं ना चाहते हुए भी अचानक से खड़ा हुआ और टीवी को चलता हुआ छोड़कर किचन में पहुंच गया.

वहां जाकर देखा तो आंटी मेरी तरफ पीठ करके खड़े होकर खाना बना रहीं थीं. मैं उनके पीछे खड़े होकर कुछ देर उनको देखता रहा.

वो जैसे जैसे कुछ उठाने के लिए इधर उधर होतीं तो उनकी मस्त गाण्ड मटक-मटक कर मुझे अपनी और आकर्षित करने लगी।
इतनी उठी हुई और सेक्सी गांण्ड मैंने पहले कभी नहीं देखी थी।

फिर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने जाकर पीछे से आंटी को जोर से हग कर लिया जिसकी वजह से उनकी आअह ह की आवाज निकल गई.
आंटी मुझसे बोली- क्या कर रहे हो? थोड़ा रुक तो जाओ, खाना तो बनाने दो.
वो मुझे हटाने की कोशिश कर रही थीं.

मैंने कहा- मुझसे अब और सबर नहीं हो रहा है. और मुझे खाना नहीं, आपको खाना है.
इतना कह कर मैंने और जोर से आंटी को जकड़ लिया और उनकी गर्दन पर खूब किस करने लगा.

अब मेरा लण्ड टाइट हो चुका था जो आंटी की गाण्ड में चुभ रहा था जिससे आंटी भी अब बहकने लगी थीं। उनका विरोध धीरे धीरे समाप्त होता जा रहा था. उनके सेक्सी जिस्म पर मेरी हुकूमत होती जा रही थी।

मैंने आंटी को कमर से खूब टाइट पकड़ा था। अब आंटी का विरोध खत्म होते ही मैंने अपने दोनों हाथों में आंटी के कड़क और रसीले बूब्‍स ले लिए. जिन्हे मैं ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा.
इसकी वजह से आंटी की आवाज उह आआहह ओह करके निकलने लगी थी जो मेरे लण्ड को और ज्यादा टाइट करने वाली थी।

अब आंटी अपने जिस्म को पूरी तरह से मेरे हवाले कर चुकी थीं.

फिर मैंने उन्हें अपनी गोद में उठा लिया तो आंटी बोली- कहाँ ले जा रहे हो?
मैंने कहा- तुम्हारे बेड पर जिस पे तुम अपने पति से चुदती हो!

और मैंने आंटी को ले जाकर बेड पे लिटा दिया. मैं उनकी साड़ी और पेटिकोट को घुटनों तक ऊपर करके टांगों पर किस करने लगा.
क्या बताऊँ यार … कितनी चिकनी टांगें थी आंटी की!
मैं नीचे पैरों से घुटनों तक किस कर रहा था।

फिर मैंने आंटी की साड़ी निकाल दी. अब वो सिर्फ ब्लाउज और पेटिकोट में रह गयी.

लो कट वाले ब्लाउज में आंटी की चूची देख कर मुझसे रहा नहीं गया. मैंने आंटी का ब्लाउज भी खोल दिया और पेटिकोट का नाड़ा मैंने हाथ से खोला ही था कि आंटी ने अपने पैरों से ही अपना पेटिकोट निकाल दिया.

अब आंटी सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी.

मैं ब्रा के ऊपर से ही आंटी के बूब्‍स चूसने लगा. और फिर मैंने ब्रा पकड़ कर एक झटका मारा तो ब्रा का हुक टूट गया और आंटी की चूचियां पूरी नंगी हो गयी.
यार कितने सेक्सी रस भरे दूध थे गोरे गोरे!

मैंने एक स्तन अपने मुँह में रख लिया जो आधे से ज्यादा मेरे मुँह से बाहर ही था. मुझे अंदाजा हो गया आंटी के बूब्‍स 36+ के हैं।

फिर बारी बारी से मैंने दोनों बूब्‍स खूब चूसे मैं उनके निप्पल को दाँतों में दबाए था जिससे आंटी की सिसकारियाँ अब पूरे रूम में गूंजने लगीं थीं.

अब मैं उनकी गर्दन से किस करता हुआ उनकी कमर और पेट पर भी खूब गीली गीली किस कर रहा था और उनकी पेंटी के पास अपना मुंह ले आया.
मैं बहुत ज्यादा ही हॉट हो चुका था।

फिर आंटी बोली- किस ही करोगे क्या?
मैंने कहा- हाँ, ऐसा किस कि आप मेरी हो जाओगी हमेशा के लिए!
“अच्छा कैसे?”

Aunty Ki Chut Chatne Ki Kahani
Aunty Ki Chut Chatne Ki Kahani

इतना सुनकर मैंने आंटी की काली पेंटी के ऊपर से ही चूत पे अपनी जुबान लगाई. आंटी की आह हाहा ह उउःह जैसी आवाजें मुझे और ज्यादा ही गर्म करने वाली थी।

फिर मैंने दाँतों से पकड़ कर आंटी की पेंटी खींच दी वो मेरी कल्पना मेरी फैंटसी अब हकीकत में बदलने वाली थी.

आंटी की रस भरी चूत अब बिल्कुल मेरे मुँह के पास ही थी. एक मदहोश करने वाली महक आंटी की चूत से निकल रही थी.
शायद अब आंटी चुदने के लिए तैयार हो चुकी थी तभी उनकी चूत गीली हो चुकी थी.

अब मैंने अपनी जीभ उनकी चूत की किनारी पर रख दी और चाटने लगा. आंटी ने भी टाँगें थोड़ी चौड़ी कर दी जो मुझे चूत का रस पीने का आमंत्रित कर रही थी।

फिर मैं भी पूरी जुबान चूत में डाल कर ज़ोर ज़ोर से चाट रहा था.
अब आंटी पूरी तरह से चुदने को तैयार थी लेकिन मैं उनकी चूत का रस ही पीने में मस्त था।

आंटी बोली- मुझे भी तो मौका दो.
इतना सुनते ही मैं 69 की पॉजिशन में आ गया. अपनी पैंट और अंडरवियर निकाल कर मैंने आंटी के मुँह के पास अपना लण्ड किया.

आंटी ने खुद मेरा पूरा लंड मुंह में ले लिया और जोर जोर से चूसने लगी। आंटी बहुत अच्छी तरह से मेरा लण्ड पूरा अंदर ले लेके चूस रही थी।

मैं आंटी की चूत चाट रहा था और वो मेरा लण्ड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थी.
आंटी की चूत जितनी गीली हो रही थी मुझे चूसने में उतना ही मज़ा आ रहा था।

अब मेरा लिंग अपनी परम उत्तेजना पर आ चुका था.
फिर मैं आंटी के मुँह से अपना लिंग निकाल कर आंटी की रस भरी चूत की तरफ आ गया और पास में पड़ी हुई अपनी पैंट से कंडोम का पैकेट निकाला जो मैंने रास्ते में लिया था।

आंटी ने देखा तो बोली- ये लगा के करोगे?
मैंने कहा- हाँ!
आंटी बोली- नहीं मेरे राज़ा, ऐसे ही करो, अपना पूरा वीर्य मेरी चूत में ही जाने देना.

इतना सुनते ही मैंने कंडोम का पैकेट वहीं डाल दिया और आंटी जी की दोनों टाँगें पकड़ कर अपने और पास खींच लिया। मैं अपना लण्ड आंटी की चूत पे रखकर हल्का सा रगड़ने लगा.
आंटी तो बिना पानी के जैसे मछली तड़पती है वैसे ही तड़पने लगी, बोली- और ना तड़पाओ मेरे राज़ा जी!

फिर मैंने ज़ोर लगाया और लण्ड अंदर डाला.
इतनी उम्र की होने के बाबाजूद आंटी की चूत अभी भी काफी टाइट थी।

अब मैं अपनी रफ्तार बढ़ाने लगा था जिसकी वजह से आंटी आआ हहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… हऊऊह जैसी आवाजें निकाल रही थी.
अब वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी थी और अपनी टाँगें फैला कर पूरा अंदर ले रही थीं।

अब मैं पॉजिशन बदलना चाह रहा था।

फिर मैं आंटी की चूत से अपना लण्ड निकाल कर बेड पर लेट गया और आंटी को मेरे लण्ड पर बैठने को कहा.
आंटी तो उस समय जैसे मेरी गुलाम हो गयी हों!
वो तुरंत ही मेरे लण्ड पर बैठ गयीं और मेरा लण्ड हाथ से पकड़ कर चूत के मुहाने पर रखा और थोड़ा ऊपर नीचे हुईं।

फिर आंटी ज़ोर ज़ोर से कूद कूद कर लण्ड का मज़ा ले रही थीं और उनके पपीते जैसे चुचे मेरे हाथ में और लण्ड आंटी की चूत में था.
मैंने आंटी को झुका कर उनके बूब्‍स को मुँह में ले लिया और खूब चूसने लगा ‘आहह’

आंटी भी खूब सेक्सी आवाजें ‘आऊच ऊहह … मेरे राज़ा जी … चोदो खूब चोदो!’ करके चिल्ला रही थीं।
पूरी शिद्दत के साथ मैं आंटी की चूत में अपना लण्ड पेल रहा था और अपना अधूरा ख्वाब मुकम्मल कर रहा था।

पूरे रूम में सिर्फ चुदाई की आवाजें ही गूंज रही थीं.
15 मिनट तक चोदने के बाद अब मैं झड़ने वाला था.
और आंटी भी अब शायद झड़ने वाली थी, तभी होंठों को दाँतों में दबा रही थीं।

फिर मैं अचानक से झड़ गया और पूरा वीर्य आंटी की चूत में ही छोड़ दिया. आंटी को मैंने अपने ऊपर लिटा लिया और उनके लब मुँह में लेकर चूसने लगा.

और फिर हम दोनों ऐसे ही एक दूसरे के चिपक कर सो गए.

सुबह जब मेरी आँख खुली तो आंटी बेड पर नहीं थी. मैंने रूम से बाहर आकर देखा तो आंटी रसोई में ब्रेकफास्ट तैयार कर रही थी।

मैंने जाकर आंटी को एक प्यारा सा हग किया और बोला- मेरी गर्लफ्रेंड, कैसी रही रात?
आंटी बोली- बहुत ही अच्छी! तुम एक दिन और रुक जाओ ना!
मैंने कहा- नहीं! फिर आप याद करना, मैं आपका गुलाम हाज़िर हो जाऊंगा.

कैसी थी मेरी यह कहानी? मुझे ईमेल पर जरूर बताएं ताकि मैं आप लोगों के लिए फिर ऐसी ही गर्मागर्म कहानी लाता रहूँ।
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top