अलीशा भाभी की आलिशान चूत चुदाई

(Alisha Bhabhi Ki Aalishan Choot Chudai)

दोस्तो, मैं दीपक सोनीपत हरियाणा से आपके लिए एक नई कहानी लेकर हाजिर हूँ, उम्मीद करता हूँ कि आपको यह कहानी पसंद आयगी और आपको लंड मुठियाने और चूत में उंगली करने पर मजबूर कर देगी।

मेरी पिछली कहानी
भाभी की चूत की गर्मी को मिली ठण्ड
को आप लोगों ने बहुत सराहा, बहुत प्यार दिया पर कुछ लोगों ने इसको जूठ बताया।
उनको मैं बस इतना कहूँगा कि मेरी हर कहानी सच्ची है और मैं झूठ नहीं बोलता और न मुझे झूठ बोलने वाले पसंद!

अब मैं आपको जो कहानी बताने जा रहा हूँ, यह घटना मेरे साथ हाल में हुई है।

मेरी पिछली कहानी को पढ़कर मेरे पास हरियाणा में एक जगह से अलीशा की मेल आई। ज़गह का नाम बताने के लिए अलीशा ने मना किया है। उसने मेरी कहानी को खूब सराहा और मुझे आगे और भी कहानी लिखने के लिए कहा।
जवाब में मैंने उसका शुक्रिया अदा किया।

अगले दिन उसकी मेल आई कि क्या मैं उससे दोस्ती कर सकता हूँ तो मैंने उसकी रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली और फिर hangout पर हमारी बात होने लगी।

मैंने उससे उसका असली नाम पूछा तो उसने अपना नाम अलीशा बताया और कहा कि वो शादीशुदा है, वो अपनी शादीशुदा जिन्दगी से खुश है पर उसको सेक्स चैट करना पसंद है इसलिए उसने मुझसे बात करने को कहा।

हमारी सेक्स चैट होने लगी, पूरी पूरी रात हम फ़ोन पर सेक्स चैट करते।
बातें करते हुए मैं अपना लंड हिलाता और वो अपनी चूत में उंगली करती।
मुठ मारते हुए की और चूत में उंगली करते हुए की एक दूसरे को फोटो एवं वीडियो भेजते।

अलीशा को भी मेरी तरह खुलकर सेक्स चैट करना और वाइल्ड सेक्स करना पसंद है। उसने अपना फिगर 32-34-38 का बताया, जिसको सुनकर ही मेरा लंड तनकर खड़ा हो गया और उसकी चूत का भोसड़ा बनाने के लिए तड़पने लगा।

जब मैंने उसे उसको चोदने की बात बताई तो कहने लगी कि वो भी मुझसे चुदना चाहती है पर वो घर से बाहर नहीं आ सकती। उसका शहर मेरी सिटी से बहुत दूर पड़ता है तो एकदम मेरा जाना भी नहीं हो सकता था, हम बस फ़ोन पर बातें करके और सेक्स चैट करके एक दूसरे का दिल बहला रहे थे, लंड, चूत, चूची की फोटो भेजकर बस अपनी आग को शांत करने की कोशिश करते।

फिर अचानक एक दिन वो हुआ, जिसका हम दोनों को बेसब्री से इंतज़ार था।

एक दिन सुबह जब उठा तो अलीशा का फ़ोन आया- क्या तुम मुझसे मिलने आ सकते हो आज?
मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ तो उसको हाँ कह दी।

मैं जल्दी नहा कर जॉब के लिए घर से निकल लिया, ऑफिस फ़ोन करके छुट्टी के लिए बोल दिया, बस स्टैंड से बस पकड़ी और निकल पड़ा अलीशा से मिलने।
रास्ते भर यही दिमाग में चलता रहा कि एकदम ऐसा क्या हुआ जो उसने मिलने के बुलाया!?
ऐसे ही मिलने बुलाया है या सेक्स करने के लिए???

ऐसे ही दिमाग में कुछ न कुछ सोचते हुए मैं 2 घण्टे के सफर के बाद मैं उसके शहर पहुँच गया।
बस से उतरते ही मैंने अलीशा को फ़ोन किया तो उसने मुझे वही पर 15-20 मिनट प्रतीक्षा करने को कहा।

करीब 25 मिनट बाद मुझे मेरे सामने एक काले रंग की बड़ी सी कार आकर रुकी, उसने मुझसे मेरा नाम पूछा और मुझे अंदर बैठने को कहा, उसने बताया कि अलीशा मैडम ने उसे भेजा है मुझे लिवाने के लिए।

बैठते ही मैंने देखा कि करीब 28 साल की लड़की ड्राइव कर रही थी, देखने में सांवली थी वो, पर एक गजब हुस्न की मालकिन थी।
मैं हैरान हो गया, सोचने लगा कि जब नौकरानी ऐसी है तो अलीशा क्या बला होगी!!
क्योंकि मैंने उसको बस फोटो में देखा था। आज पहली बार उसको फेस टू फेस देखने वाला था।
मेरा दिल मचल रहा था उसको देखने को!

करीब 15 मिनट की ड्राइविंग के बाद कार एक बंगले के सामने रुकी और मुझे उतरने को कहा गया।
बंगला देखने में बहुत खूबसूरत और आलिशान था, मतलब की अलीशा अमीर घराने से ताल्लुकात रखती थी।

यही सोचते हुए मैं घर में अंदर जाने लगा तो एकदम मेरे सामने अलीशा आ गई, उसको देखते ही मेरी आँखों में एक चमक सी आ गई, दिल मचल गया।

फोटो में जैसी दिखती थी, उससे कहीं ज्यादा सेक्सी दिखती थी वो!
उसको देखकर तो मैं सुन्न हो गया और उसको देखता रहा।

कुछ पल बाद अलीशा ने मुझे पकड़कर हिलाया और कहने लगी- यहीं देखते रहोगे या अंदर भी आओगे???
मैंने कहा- तुम हो ही इतनी खूबसूरत कि बस देखते रहने का दिल करता है, आँखें हटाये नहीं हटती तुमसे!

फिर मैंने उसको वहीं पर एक हग किया और उसके होठों को चूमने लगा।
उसने मुझे रोका और अंदर ले जाने लगी, अंदर जाते ही बोली- थोड़ा तो सब्र करो, बाहर नौकरानी है, देख लेती तो गजब हो जाता।
मैंने कहा- देख लेती तो उसको भी आने साथ ले लेते और उसको भी सुख दे देता मैं!

यह सुनते ही अलीशा गुस्से में बोली- मैंने रिस्क लेकर तुम्हें उसके लिए नहीं बुलाया, बल्कि खुद को खुश करने के लिए बुलाया है। आज सिर्फ मुझे प्यार करो, मेरी तड़प मिटा दो।
यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

तभी नौकरानी कॉफी बना लाई।

अलीशा ने नौकरानी को घर जाने के लिए कह दिया और अगले दिन आने की कही।
उसके जाने के बाद घर पर सिर्फ मैं और मेरी जान अलीशा रह गए थे।

अलीशा मेरी गोदी में आकर बैठ गई और मेरे होठों को चूमने लगी, उसकी गर्म साँसें मेरी साँसों से टकरा रही थी। अलीशा को कुछ ज्यादा ही जल्दी थी सब कुछ करने की… जैसे कि पता नहीं कितने अरसे से भूखी हो।

अलीशा ने अपने नर्म और मुलायम होंठ मेरे होंठों से छुआए और मेरे निचले होंठ को मुँह में लेकर चूसने लगी।
उसके होंठों का स्पर्श मिलते ही मेरा लंड हरकत करने लगा और अपना रूप दिखाने लगा।
अलीशा मेरे लंड को अपनी गांड पर महसूस कर रही थी।

ऐसे ही चुम्बन करते हुए मैंने उसको गोदी में उठाया और बेडरूम में ले गया, उसके ऊपर लेटकर मैं उसके मम्मों को कपड़ों के ऊपर से दबाने लगा और उसको होंठों को चूसता रहा।
ऐसे ही धीरे धीरे हम दोनों ने अपने कपड़े उतार दिए।

उसके चूचे बहुत टाइट थे, जैसे कभी दबाया नहीं गया इनको, देखकर ऐसा लग रहा था कि मुझे बुला रहे हो कि हमें खा जाओ, निचोड़ डालो हमें, प्यार करो।

कुछ देर बाद हम दोनों एक दूसरे के सामने नंगे पड़े थे।

मेरा लंड देखते ही उसके चेहरे पर चमक आ गई और मुस्कुराते हुए कहने लगी- आज आएगा बड़े मोटे लंड से चुदने का मजा!
वह मुझे नीचे करके खुद मेरे ऊपर आ गई और मेरे लंड को मुख में लेकर चूसने लगी, जैसे कोई छोटा बच्चा लॉलीपॉप चूसता हो।

मेरे कहने पर उसने अपनी चूत मेरे मुंह के ऊपर कर दी, अब मैं उसकी चूत चूस रहा था और वो मेरा लंड।
चूत चूसते हुए एक हाथ से उसका दाना सहला रहा था, वो बड़ी कातिल अदा से अपनी गांड हिला कर मेरी जीभ से अपनी चूत को चुदवा रही थी।

बीच बीच में मैं उसकी चूत में उंगली कर रहा था जिससे उसके मुंह से सिसकारियाँ निकल रही थी ‘आह्ह.. आह्ह.. उफ्फ… इसस्स… फक मी.. चूसो और जोर से चूसो।’
ऐसे करते हुए वो मेरे मुँह में झड़ने लगी और मैंने चाट चाटकर उसकी चूत को साफ़ कर दिया।
चूत रस निकलने के बाद वो साइड में लेट गई और हाँफने लगी।

मैं उठकर उसकी टांगों के बीच आया और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा, चूत रस निकलने से उसकी चूत चिकनी हो गई थी, मैंने मौका देखकर एकदम से उसकी चूत के किनारे लंड रखकर धक्का दे दिया और मेरा सुपारा उसकी चूत में घुस गया। ऐसे एकदम हुए हमले से उसकी चीख निकल गई पर घर में सुनने वाला कोई नहीं था।

वो कहने लगी- मेरी चूत को चुदे हुए बहुत वक़्त हो गया है और तेरा लंड बहुत मोटा है, तो आराम से कर!
मैं आराम से अपना लंड आगे पीछे करने लगा उसकी चूत में और फिर एक और झटके से पूरा लंड उसकी चूत की गहराई में सेट कर दिया।

शादी होने के बाद भी उसकी चूत बहुत टाइट थी।

उसके बाद जोर जोर से धक्के मारने लगा और उसके मुंह से कामुक आवाजें निकलने लगी- ओह्ह… आह्ह… उफ्फ… मेरी जान… चोदो! फाड़ दो मेरी चूत आज… साली बहुत दुखी करती है… शादी किये एक साल हो गया पर चुदाई का असली मजा आज आया है!
और पता नहीं क्या क्या….???

कुछ देर ऐसे ही चुदाई करने के बाद मैंने उसको टेबल के किनारे पर बिठा दिया और उसकी टांगों को कंधे पर रखकर लंड उसकी चूत में उतार दिया।
ऐसे चुदाई करने से उसको दर्द हो रहा था लेकिन उसने मुझे रोका नहीं।

थोड़ी देर बाद उसने मुझे नीचे लिटा दिया और मेरे ऊपर आकर बैठ गई, लंड को पकड़कर अपनी चूत पर सेट किया और एकदम से पूरा लंड अपनी चूत में उतार लिया और उस पर कूद कूदकर मेरे लंड को चोदने लगी।
उसके चूचे भी अप डाउन हो रहे थे… उसके ऐसे करने से बहुत मज़ा आ रहा था।

दस मिनट की चूत चुदाई के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और वो मुझसे नीचे से जोर जोर से धक्के मारने को कहने लगी।
5-7 धक्कों के बाद वो झड़ने लगी, उसका चूत रस बहते हुए मेरी झांटों पर आने लगा।

वो लंड से उतर कर नीचे लेट गई और मुझे चुदाई करने को कहने लगी।
मैं भी झड़ने के करीब था, मैं उसकी टांगों को पकड़ कर जोर से चोदने लगा।
10-12 धक्कों के बाद मैं उसकी चूत में ही झड़ गया।

जैसे मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला, मेरा और उसका कामरस उसकी चूत से बह निकला। वो मेरा लंड पकड़ कर चूसने लगी और लंड पर लगा सारा वीर्य चाटकर साफ कर दिया।
चुदाई के बाद हम दोनों एक दूसरे को बाँहों में लेकर सो गए।

कुछ देर बाद मेरी आँख खुली तो देखा अलीशा मेरे पास नहीं थी। मुझे बाथरूम से पानी गिरने की आवाज़ आई, जाकर देखा तो वो नहा रही थी।
मैंने पीछे से जाकर उसको पकड़ लिया और उसको चूचों को जोर जोर से मसलने लगा।
3-4 मिनट के फोरप्ले के बाद मैंने उसको घोड़ी की तरह पीछे से चोदा और अपना वीर्य उसकी चूत में निकाल दिया।

फिर हम दोनों नहाये और ऐसे ही नंगे बेड पर आकर लेट गए।
अलीशा ने बताया कि उसको ऐसा सेक्स का मजा आज तक नहीं आया, वो बहुत वक़्त से ऐसे सेक्स के लिए तड़प रही थी।

ऐसे ही बात करते हुए मैंने उसको एक बार और चोदा।

शाम होने को आई थी, मैंने उससे विदा ली और बस स्टैंड की तरफ निकल पड़ा। उसका बिल्कुल दिल नहीं था मुझे भेजने को, पर वापसी आना मेरी मजबूरी थी।

उससे जल्दी ही मिलने का वादा करके मैं घर आ गया।

तो दोस्तो, यह थी मेरी और अलीशा की चुदाई की कहानी।
आप सब दोस्तों की प्यार भरी मेल का इंतज़ार रहेगा।

[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top