लंड बदलकर चुत चुदाई का मजा- 2

(Jija Sali Xxx Kahani Free: Lund Badalkar Chut Chudai Ka Maja- Part 2)

जीजा साली xxx कहानी में पढ़ें कि कैसे मैं अपने जीजू से चुदाने के लिए उन्हें मौक़ा दे रही थी. जीजा भी अपनी छोटी साली की चूत में लंड घुसाने के लिए उतावले थे. तो उन्होंने क्या किया?

दोस्तो नमस्कार, मैं मधु, आप लोगों की प्यारी चुदक्कड़ लेखिका एक बार फिर अपनी जीजा साली xxx कहानी में स्वागत करती हूँ. साथ ही आप लोगों का धन्यवाद भी करती हूं कि आप लोग मुझे मेल और इंस्टाग्राम के जरिये इतना प्यार देते है.

लेकिन कुछ लोग इस प्यार को मेरे बिस्तर तक ले जाना चाहते हैं. उन लोगों से मैं माफी चाहती हूँ. क्योंकि मैं पैसे के लिए नहीं चुदती, जो किसी से चुदवा लूं. मैं सिर्फ अपने मजे के लिए चुदती हूँ, वो भी कुछ परिचित लोगों से.

इसलिए आपलोग बुरा ना माने और न ही दिल छोटा करें. मैं ऊपर वाले से प्रार्थना करती हूं कि मेरे सारे पाठकों को मेरी जैसे ही चुदक्कड़ और हॉट बीवियां मिलें और आपके और आपके लंड के साथ हमेशा खेलती रहें.

इन सब बातों को छोड़ते हुए अधूरी सेक्स कहानी को पूरी करती हूं … और अपनी अधूरी चोदनकथा को आगे बढ़ाती हूँ.

आप लोगों ने मेरी जीजा साली xxx कहानी के पिछले भाग
लंड बदलकर चुत चुदाई का मजा- 1
में पढ़ा था कि किस तरह मेरी दीदी और मेरे पति के जाने बाद जीजू मेरे पर टूट पड़ने के लिए मेरे पीछे भागे और मैं बेडरूम में घुस गई.

अब आगे की जीजा साली xxx कहानी:

अब जीजू मुझे चारों तरफ से पकड़ने की कोशिश कर रहे थे और मैं इधर उधर हो रही थी.

तभी जीजू पलंग पर चढ़ गए … तो मैं उतरने लगी.
लेकिन जीजू ने मुझे पकड़ लिया और मुझे पलंग पर एक झटके में गिरा दिया.

मैं जैसे ही उठने लगी, जीजू मेरे ऊपर सवार हो गए और बोले- अब कहां जाओगी साली साहिबा!
तो मैं बोली- जीजू छोड़ो ये सब गलत है.
वो बोले- कुछ गलत नहीं है. आज तो मैं साली से घरवाली का सुख लेकर ही रहूँगा.

बस इतना बोलते ही जीजू मेरी चुचियों को दबाने लगे. मैं कसमसाने लगी.

साथ ही मैं थोड़ी सी एक्टिंग करते हुए चिल्लाने लगी- उन्नह … छोड़ दो जीजू … ये गलत है.
लेकिन वो आज मानने वाले नहीं थे. वो आज पूरे मूड में थे और मैं भी पूरी मूड में थी. लेकिन थोड़े नखरे कर रही थी.

वो मेरी चुचियों को अपने दोनों हाथों से मसले जा रहे थे. अब तो वो मेरे टॉप में बार बार हाथ डालने की कोशिश कर रहे थे. लेकिन मैं बार बार उनका हाथ हटा देती थी.

ये बात अब जीजू को बर्दाश्त नहीं हुयी. वो मेरी चुचियों को देखने के लिए इतने व्याकुल हो गए कि उन्होंने मेरे टॉप को को जोर से खींचना चालू कर दिया.

मैं अपने आपको झूठ मूठ की बचा रही थी.

अब जीजू से रहा नहीं गया और उन्होंने मेरे टॉप को खींचते हुए फाड़ दिया. मैं यह देखकर काफी खुश थी कि जीजू में जोश बहुत है.
आज बहुत दिनों के बाद मेरी चुत को कोई ढंग का दूसरा लंड मिलेगा.

मैं नाटक करते हुए बोली- जीजू आपने ये क्या कर दिया … छोड़ो मुझे, आप सचमुच पागल हो गए हो.

लेकिन वो मेरी बातों को सुन ही कहां रहे थे. वो मेरे दोनों हाथों को ऊपर करके पकड़े हुए थे और मेरी चुचियों को पके हुए आम की तरह पिये जा रहे थे.

अब मुझे भी उनका ऐसे दूध चूसना बहुत पसंद आने लगा था. लेकिन मैं थोड़ी नखरे करते हुए कसमसा रही थी. मगर उन पर इस बात का कोई असर नहीं था. वो खुले सांड की तरह मेरी चुचियों को पिये जा रहे थे.

मैं तो पहले से गर्म थी, अब और गर्म होने लगी थी. जिसके कारण मैंने विरोध छोड़ शरीर ढीला छोड़ दिया. इससे जीजू मेरी चुचियों को अब और भी ज्यादा बेदर्दी से मसलने लगे थे और ऐसे चूस रहे थे, जैसे वे आज मेरे आमों से सारी मिठास पी जाएंगे. वो तो जैसे मेरी चुचियो में खो गए थे.

जीजू इस तरह से मेरी चुचियों के साथ खेल रहे थे, जिसकी वजह से मैं और भी गर्म हो गयी थी. मुझे बहुत मजा आने लगा था. इसलिए मैं अपने नखरों को छोड़कर अपने आपको जीजू को समपर्ण कर दिया और उनका साथ देने लगी.

मैं अब उनको बराबरी से साथ देने लगी थी. मैंने भी जीजू के गालों पर पप्पी करना शुरू कर दिया था. जीजू अभी भी मेरी चुचियों को बेदर्दी से मसलते हुए पी रहे थे.

वे जोश जोश में या जानबूझ कर बार बार अपने दांत मेरे मम्मों पर चुभो रहे थे … जिससे मुझे दर्द तो हो रहा था लेकिन एक नए लंड की ख्वाहिश ने इस मीठे दर्द से मुझे मज़ा दिलाना शुरू कर दिया था और मैं मीठी मादक सीत्कारें भरते हुए जीजू का साथ दे रही थी.
हालांकि मुझे कुछ डर भी लग रहा था कि अगर मेरे बदन पर एक भी दांत का निशान पड़ गया तो मैं अपने पति अमित को क्या बोलूंगी.

इसलिए मैं जीजू से बोली- ये क्या कर रहे हो यार जीजू … मेरी चुचियों पर निशान पड़ जाएंगे.
इस पर जीजू स्माइल करते हुए बोले- पड़ने दो जान … आज तो मैं तुम्हें इतने लव बाइट दूंगा कि जब भी तुम आईने के सामने खड़ी होगी, मुझे पक्का याद करोगी.

मैं भी स्माइल पास करते हुए बोली- ठीक है जीजू … दे दो निशान, फिर मैं अमित और दीदी को बोल दूंगी कि तुमने मेरे साथ जबरदस्ती की है … और सबूत के तौर पर तुम्हारे दिए लव बाईट दिखा दूंगी.

ये सुनकर जीजू थोड़े से ठंडे हुए और बोले- यार, कभी सोचा नहीं था कि तुम्हारी चूचियों के साथ ऐसे खेल पाऊंगा. मैं न जाने कब से तुम्हारे साथ ये सब करना चाहता था, लेकिन तुम लाइन ही नहीं देती थी.
मैं बोली- आज तो आपकी मुराद पूरी हो गयी ना!

अब जीजू मेरे होंठों पर पप्पी करते हुए बोले- अभी कहां मेरी रानी, मुराद तो अब पूरी करूंगा.
मैं बिंदास बोली- ठीक है, कर लो मनमानी … लेकिन आराम से करो और जल्दी करो.
जीजू बोले- आज जल्दी किस बात की है मेरी बेबी … बहुत दिनों बाद तो ऐसा मौका मिला है. मेरी रानी आज तो तेरे हर छेद को अपने लंड से फाड़ दूंगा.

इस पर मैं थोड़ी गुस्से में बोली- इतनी गर्मी भरी है … दीदी को नहीं चोदते क्या?
जीजू बोले- उसे चोदता तो हूँ मेरी रानी … लेकिन तेरे जैसी कसक उसमें कहां है.

उनकी ये बात सुनकर मैंने सोची कि लोग सही कहते हैं, मर्द जात कुत्ता होता है. अपनी बीवी कितनी ही हॉट क्यों ना हो … उसे दूसरी की बीवी हमेशा अच्छी लगती है. इसका उदहारण आप लोग देख ही रहे हैं.

उधर मेरे पति ना जाने कहां किस पोज़ में मेरी दीदी को चोद रहे होंगे … और इधर क्या हो रहा है, ये तो आप लोग के सामने ही है.

जीजू अब मेरी चुचियों को अपने दोनों हाथों से मसल रहे थे … और मेरे गालों पर होंठों पर चुम्मियों की बरसात किए जा रहे थे.

मैं भी उनका पूरा साथ दे रही थी. वो मेरी गर्दन पर पप्पी करने लगे थे … इससे मैं एकदम से गरमा गई. अब मैं अपने जीजू के लंड से चुदने के लिए बिल्कुल तैयार थी. इसका सिग्नल मेरी चुत कब से दे रही थी. ये बात जीजू समझ गए थे.

तभी जीजू एक हाथ नीचे ले गए और जींस के ऊपर से मेरी चुत मसलने लगे. इससे मैं एकदम से चिहुंक गयी और मैंने कमर उछाल दी.

जीजू ने इस बात को भांप लिया कि मेरी चुत लंड मांग रही है.

उन्होंने अपने हाथ को मेरी जींस के अन्दर घुसेड़ दिया और चुत मसलने लगे.

इस बार उनके हाथों के स्पर्श से तो मेरी चुत में आग सी लग गयी थी.

मेरे मुँह से अपने आप निकल गया- इतना मत तड़पाओ जीजू … आह … मैं गर्म हो गई हूँ … अब जल्दी से फाड़ दो इस चुत को.
जीजू बोले- क्या बात है मेरी रानी … तूने आज पहली बार मेरे से कुछ मांगा है. तू टेंशन मत ले, आज तेरी चुत की ऐसी कुटाई करके चोदूंगा कि तू अपने पति को भूलकर मेरी दीवानी हो जाएगी.

इतना बोलकर उन्होंने मेरी चूचियों पर बड़ी जोर से दांत चुभो दिए. मैं इतनी गर्म हो गयी थी कि मैं उस दर्द को एन्जॉय कर रही थी. मैं सब कुछ भूल गयी थी कि मेरी चुचियों पर निशान न हो जाएं.
मर्दों को तो वैसे भी शायद तड़पाना अच्छा लगता है. इसलिए वो ये सब हरकत करते हैं. मैं भी तड़फ के साथ एन्जॉय कर रही थी.

तभी जीजू उठे और मेरी जींस के पास आकर जींस के बटन खोलकर उतारने लगे. चूंकि मेरी जींस टाइट थी … इसलिए जीजू को उतारने में आसानी नहीं हो रही थी. पर वो मानने वाले कहां थे. उन्होंने जैसे तैसे करके मेरी जींस और पेंटी उतार दी … और खड़े होकर मेरी चुत निहारने लगे.

उनका ऐसी निगाहें मुझे शर्मसार कर रही थीं. मैंने अपने हाथों से चुत ढक ली. फिर उन्होंने मेरे हाथों को पकड़कर हटा दिया और बोले- इस खजाने को मत ढको यार.

मैं बोली- जीजू मुझे शर्म आ रही है.
फिर उन्होंने बोला- अब कैसा शर्माना मेरी रानी … मुझे आज जी भर कर देख लेने दो. आज तक मैंने ऐसी चुत नहीं देखी है.
ये कहते हुए उन्होंने अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए बोला- आज तो इस चुत का कचूमर निकलने में बड़ा मजा आएगा.

फिर जीजू अपने उंगलियों को मेरी चूत पर बड़े प्यार से फिराने लगे … जिससे मेरी चूत में गुदगुदी सी हो रही थी.

जीजू के ऐसा बार बार करने से मैं तड़पने लगी थी. मैं इतनी अधिक मदहोश हो गयी थी कि बेकरारी से छटपटा रही थी.

इसी दौरान जीजू ने मेरी चूत में उंगली कर दी, जिससे मैं चिहुंक उठी और बड़बड़ाने लगी- ऐसे मत तड़पाओ यार … जल्दी से इस चूत को फाड़ दो.
लेकिन जीजू तो मेरी बेकरारी बढ़ाने में लगे थे.

फिर जीजू ने एकदम से मेरी चूत को अपने मुँह में भर ली. मैं इसके लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थी. जैसे ही जीजू ने अपने मुँह में मेरी चूत को भरा, मेरी चुत गर्मी बर्दाश्त नहीं कर सकी और मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया. जीजू ने पूरा पानी चपर चपर कर पी लिया.

बीच बीच में वो मेरी चुत में दांत चुभो देते थे, जिससे मैं और बेकरार हो जाती थी.

जीजू तो जैसे मेरी नंगी जवानी को देखकर पागल ही हो गए थे. जीजू क्या अगर कोई भी मुझे इस रूप में देख लेता तो उसका पागल होना निश्चित ही था.

ऐसी कातिल जवानी देने के लिए मैं ऊपर वाले का हमेशा शुक्रिया अदा करती हूं. ऊपरवाले ने मुझे ऐसा कातिल हुस्न छिपा कर रखने के लिए तो नहीं दिया है. इसलिए मैं इस हुस्न का पूरा और अच्छे ढंग से इस्तेमाल करती हूं.

अब जीजू पूरा जोश में आ गए थे और उन्होंने अपने कपड़ों को तुरन्त निकाल दिया. कपड़े उतरते ही उनका लंड तमतमा कर बाहर निकला.

आह … बिल्कुल मोटा तगड़ा भूरे रंग का लंड … एकदम मक्खन मलाई खाया पिया लंड देख कर मेरी तो मानो बांछें खिल गईं.
जीजू का लंड करीब 8 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा रहा होगा.

उसे देखकर मेरी चूत पनिया गई और मेरे चेहरे पर मुस्कान आ गयी. मैं मन ही मन सोचने लगी कि आज बहुत दिनों बाद कोई दमदार लंड मेरी चुत को चोदेगा.

मेरी चुत चुदाई मेरे जीजू के मोटे लंड से किस तरह से होगी, क्या जीजू का लंड मेरी चुत को ठंडा कर सकेगा. ये सब मैं अगली बार लिखूंगी.

तब तक के लिए अपनी इस प्यारी हॉट चुदक्कड़ लेखिका को इजाजत दीजिए. आप लोगों को मेरी जीजा साली xxx कहानी कैसी लगी, मुझे मेल या इंस्टाग्राम पर जरूर बताइएगा.

आपकी प्यारी मधु
मेरी मेल आईडी है [email protected]
इंस्टाग्राम लिंक है https://www.instagram.com/madhu_jaiswaloffical/?hl=en
जीजा साली xxx कहानी जारी है

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top