पड़ोसन चाची की चुदाई उनके ही घर-2

(Padosan Chachi Ki Chudai Unke Ghar Me- Part 2)

मैं आपका दोस्त अनिकेत आपके लिये पड़ोसन चाची की चुदाई कहानी का दूसरा भाग मतलब दूसरे दिन रात की चुदाई कहानी लेकर आया हूं।

आपने पहले वाले भाग में तो पढ़ा ही है कि मैंने किस तरह रात में उन्हीं के घर उन्हीं के बेड पर चाची की चुदाई का आनंद लिया था.
चाची ने सुबह मुझे कहा था कि आज रात को भी आना, फिर मजा करेंगे।

तो फिर हमने क्या मजा लिया? ये अब आप आगे पढ़ें।

मैंने दिन में चाची के लिये कुछ खास शॉपिंग की. मैंने उनके लिए काले रंग की एक हॉट ब्रा और पैंटी ले ली. और चाची कभी मैक्सी नहीं पहनती थी इसलिये उनके लिये लाल रंग की एक हॉट की मैक्सी भी ली थी।
चाची ने मुझे कंडोम लाने को कहा था तो मैं मेडिकल स्टोर से कंडोम का पैकेट भी ले लाया था. मुझे तो चॉकलेट बहुत पसंद है इसलिए मैंने वही फ्लेवर के कंडोम लिये और कुछ चॉकलेट भी लिये.
मैंने कुछ सेक्स की गोलियां ली और सबसे महत्वपूर्ण … चाची की चूत पे बहुत सारे बाल थे इसलिए मैंने वहाँ से एक हेअर रिमूवल क्रीम भी ली क्योंकि मुझे शेव की हुई चूत ही पसन्द है.

फिर मैं सीधा चाची के ही घर गया और अपने घर कॉल करके बता दिया कि मैं सीधा चाची के यहाँ जा रहा हूँ।

मैं उनके घर गया और बेल बजाई. चाची आई और दरवाजा खोल के मुझे देख मुस्कुराने लगी. चाची ने मुझे बहुत मस्त सी स्माइल दी.

जब मैं अंदर गया तो चाची ने पूछा- इतना सब क्या ले आया मेरे लिए इन बैग्स में?
तो मैंने कहा- यह आपके लिये सरप्राइज है.
चाची बोली- ठीक है.

मैंने उनसे कहा- तुम्हारे लिए और एक चीज लाया हूँ.
तो वे बोली- क्या?
मैंने उन्हें हेअर रिमूवल क्रीम दिखाई.

तो चाची बोली- ये किसलिये?
तब मैंने उनसे कहा- तुम्हारे पास एक चीज है जो मुझे नापसन्द है.
तो वो बोली- ठीक है, तो तुम्ही उसे हटा दो।
चाची मेरी बात समझ गई थी क्योंकि मैंने उन्हें कल ही रात चुदाई करते हुये उनके चूत के ऊपर के बालों के बारे में कहा था.

तब करीब रात के 8 बजे थे और हमारे पास बहुत समय था. मैंने चाची की साड़ी को निकाल दिया. चाची को सिर्फ ब्लाउज़ पेटीकोट में देख मैं गर्म होने लगा. फिर भी मैंने कंट्रोल किया और मैंने चाची का पेटिकोट भी निकाल दिया.

अब मैं चाची को ब्लाउज और पेंटी में बाथरूम में ले गया. वहां मैंने चाची की पैंटी को भी उतार दिया. चाची की चूत उभरी होने के कारण बहुत मस्त नजारा दिख रहा था. मैंने देखा कि चाची की चूत गीली हो चुकी थी.
मैंने चाची की चूत को चाटा और साफ कर दी.

फिर मैंने बाल सफा क्रीम चाची की झांटों पर लगा दी और 10 मिनट के बाद सारे बाल साफ कर दिए.
अब तो मेरी सेक्सी चाची की चूत पाव रोटी की तरह चिकनी और फूली हुई दिख रही थी. मुझे जो चीज चाहिए थी वो मिल गई थी.

Padosan Chachi Ki Chut
Padosan Chachi Ki Chut

चाची की चूत के बाल साफ़ करके हम दोनों ने शॉवर लिया और बाहर आ गए. तब मैंने मेरी नाईट ड्रेस पहन ली. पर उनके पास नाईट के कोई और कपड़े नहीं थे.
तब मैंने उन्हें अपनी लाई हुई ब्रा पैंटी और मैक्सी पहनने को दी.

चाची बहुत खुश हो गई और मुझे किस करने लगी. तब चाची के नंगे बदन पर सिर्फ एक तौलिया ही था. मुझे बहुत मस्त लग रहा था.

वो अंदर गई और थोड़ी देर बाद चाची मेरे दिए कपड़े पहन कर बाहर आई. वो जन्नत लग रही थी … बहुत हॉट लग रही थी … मुझे बहुत मस्त लग रहा था.

चाची ने मुझसे पूछा- मैं कैसे दिख रही हूँ?
तब मैंने कहा- बहुत मस्त दिख रही हो।

उसके बाद हम दोनों ने खाना खाया और बातें करने लगे.

कुछ देर बाद चाची हम दोनों के लिए दूध लायी तो मैंने उन्हें सेक्स वाली गोली दे दी.
उन्होंने पूछा- किस चीज की गोली है यह?
तो मैंने कहा- तुम खा लो, थोड़ी देर बाद पता चलेगा यह तो!
चाची ने गोली खा ली और मैंने भी.

फिर हम मूवी देखने लगे. तब वहाँ पर एक हॉट गाना चल रहा था. तो हम गर्म होने लगे और धीरे धीरे हम पर गोली का असर होने लगा था.
हम दोनों एक दूजे को देख रहे थे.

तब करीब 10 बज चुके थे. मैं फ्रिज में से बर्फ लेकर बेडरूम में रख आया. फिर मैं बाहर आकर चाची को अपनी गोद में उठा कर किस करते हुये बेडरूम में ले गया और बेड पर लिटा दिया.

फिर मैंने चॉकलेट खोली और उसकी एक साइड उनके मुंह में रख कर दूसरी तरफ से अपने मुंह में लेने लगा. तो बहुत मजा आ रहा था। चॉकलेट खाते खाते हम दोनों दूसरे के लब आपस में जुड़ गये और हम एक दूजे को किस करने लगे.

चाची उनके हाथ को मेरे बालों में डाल के मुझे बहुत प्यार करते हुए किस कर रही थी. मानो उन्होंने मुझे अपना पति ही मान लिया था. मैं भी उनको उनके ऊपर लेट कर किस कर रहा था।
हम बहुत मजा ले रहे थे.

करीब 10 मिनट तक हम किस करते रहे थे। और जब हम किस कर रहे थे तब चॉकलेट का रस एक दूसरे के मुंह में छोड़ रहे थे और एक दूजे में डूब रहे थे।

अब मैं उनके मेक्सी के ऊपर से ही उनके बदन को मसलने लगा और उनकी गर्दन को किस करते करते नीचे आने लगा. मैं उनके पूरे बदन को उनकी मेक्सी के ऊपर से ही किस करता रहा और उन्हें पूरी तरह से गर्म कर दिया था.

चाची भी सिसकारियाँ भर रही थी- आ … उ … ई …
और कह रही थी- आई लव यू अनिकेत!
इस तरह से उसके मुंह से आवाज आ रही थी.

अब मैं उनकी मैक्सी को नीचे से उठाने लगा और उनके पैरों को किस करते हुए ऊपर आ रहा था. चाची आहें भर रही थी- आ … आ … ई!

इस तरह से मैं किस करते हुए चाची की नंगी जांघों तक पहुँच गया. उनका बदन तड़प रहा था और वे सिसकारियां भर रही थी. मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर मैंने उनकी मैक्सी को और ऊपर किया और उनकी नाभि को, पेट को किस करने लगा. तब वे बहुत ही तड़पने लगी और जोर जोर से आहें भरने लगी- अनिकेत, ज्यादा मत तड़पाओ.

पर अब तक हम झड़े नहीं थे क्योंकि हमने सेक्स पावर वाली गोली खाई हुई थी।

फिर मैं और ऊपर गया और उनके बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही किस करते हुए चूसने लगा और मजा लेता रहा.

कुछ देर बाद मैंने चाची की मेक्सी निकाल दी. अब वे मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में मेरी शिकार बन कर मुझसे चुदने के लिए पड़ी थी.

तभी एकदम से पता नहीं चाची को क्या हुआ … वो मेरे ऊपर चढ़ गई और मेरे सारे कपड़े उतार दिए. जब वे मेरी नाभि को किस कर रही थी, तब मैं बहुत जोर से सिसकारियां भर रहा था और उनसे कह रहा था- आई लव यू चाची … मुझे आपने जन्नत दिखा दी. लव यू चाची!
इस तरह से मैं भी मजा ले रहा था।

अब मैं उनके सामने सिर्फ़ चड्डी में और वे मेरे सामने ब्रा और पैंटी में थी. मैंने उन्हें नीचे लिटा दिया और जो बर्फ मैंने लाकर रखी थी, उसमें से एक टुकड़ा लिया और उनकी गर्म छाती के ऊपर फिराने लगा.
तब चाची बहुत तड़पने लगी.

फिर मैं उसे वैसे ही फिराता रहा और जब सारी बर्फ पिघल गयी तो दूसरा टुकड़ा लेकर मैं चाची की नाभि के आसपास फिराने लगा.
वो जोर जोर से तड़प रही थी और मजा ले रही थी.

फिर मैंने उस बर्फ को नाभि के छेद में ही छोड़ दिया और उनकी नाभि को फिर से किस करने लगा.
इसके बाद मैं और नीचे हो गया तो उनकी पैंटी के ऊपर से ही चूत पर फिराने लगा. चाची बहुत हिलने मचलने लगी क्योंकि ठण्डी बर्फ का पानी चूत में जा रहा था तो वो वासना से तड़प रही थी.
उस बर्फ का सारा पानी चाची की चूत में ही गया क्योंकि उनकी चूत बहुत उभरी हुई है.

फिर उन्होंने मुझे नीचे लिटाकर पहले मेरी नाभि पर और फिर चड्डी की ऊपर से मेरे लंड पर बर्फ फिराने लगी. तो मैं भी बहुत तड़प रहा था.
इस तरह से हमने बर्फ से बहुत मजा लिया.

अब हमारी असली चुदाई की कहानी आगे है, अब तक हमारा रोमांस था।

चाची मेरे ऊपर थी, मैंने उनके बूब्स को दबाना और मसलना शुरू किया तो वे आहें भरने लगी और मेरे ऊपर ही मचलने लगी. तब चाची की चूत मेरे लंड पर ही थी तो मुझे बहुत मजा आ रहा था।
फिर मैंने उठ कर चाची की ब्रा के हुक खोले और उनके बूब्स को आजाद किया और चूसने लगा.
चाची सिसकारियां भरने लगी- आ … आ … आह!
फिर हमने एक दूजे को किस किया।

और फिर उन्होंने मुझे खड़ा किया और मेरे लंड को मेरे अंडरवीयर के ऊपर से ही चूसने लगी. फिर चाची ने मेरी चड्डी उतारी तो मेरा छह इंच लंबा और दो इंच मोटा लंड उनके मुँह के सामने सलामी दे रहा था.

अब चाची ने मेरे लंड के टोपे को चाटना शुरू किया तो मुझे मानो जन्नत मिल गई. मुझे बहुत मस्त मजा आ रहा था और मैं उनके सर पे से हाथ फिरा रहा था.

फिर उन्होंने मेरे पूरे को चाटा, फिर धीरे धीरे उसे अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. मुझे खूब मजा आ रहा था.
मैं उनका सिर पकड़ के लंड को उनके मुंह में अंदर तक डाल रहा था और उन्हें कह रहा था- चाची चूस मेरा लंड … और तेज चूस!
चाची भी जोर जोर से मेरा लंड चूस रही थी.

तब करीब 10 मिनट तक उन्होंने मेरा लंड चूसा पर किसी तरह का पानी नहीं निकला और लंड अभी भी तन के ही खड़ा था.

फिर हमने आपस में किस किया और चाची बेड पर लेट गई।

अब मैं उनकी पैंटी के ऊपर से ही चाची की चूत को चाटने लगा. वे जोर जोर से सिसकारियां भरने लगी- आह … उ…ई … उइ … मा!
इस तरह से आवाज निकाल रही थी.

मैं धीरे धीरे से उनकी पैंटी नीचे लाने लगा और मेरे सामने उनकी शेव की हुई चूत आने लगी. चाची की चूत पूरी तरह से गीली हो चुकी थी और मुझे पता था कि अब वे 10 से 15 मिनट में झड़ जायेंगी.

तो मैं भी एकदम पागल की तरह चाची की चूत पे टूट पड़ा, उनके दोनों पैरों को फैला दीया और अपने मुंह को चाची की चूत की ऊपर रख दिया और चाटने लगा. बीच बीच में ही मैं उनकी चूत में उंगली करता रहा और अपनी जीभ से उनकी चूत को चोदता रहा.

चाची भी मेरे मुंह को अपनी चूत पे दबा रही थी और जोर जोर से आवाज निकाल रही थी- आ..ओ … उह!
और उन्होंने अपनी चूत का पूरा पानी मेरे मुंह में ही छोड़ दिया और मैंने भी पूरा पी लिया.

अब चाची शांत हो गई और लेट गई।
मैं अब उनके बूब्स चूस रहा था तो कभी चाची की चूत सहला रहा था. उससे चाची फिर से गर्म हो गई.

तब मैंने उनको बेड पे सर बाहर ककरे लिटा दिया और मैं बेड के साथ खड़ा हो गया और उनके मुंह में मेरा लंड डाल के चाची का मुख चोदन करने लगा. चाची को और मुझे भी मजा आ रहा था. मैं करीब 15 मिनट में झड़ गया और पूरा पानी चाची के मुंह में छोड़ दिया.

ये पोज़िशन्स मुझे पता होने का कारण यह है कि मैं सेक्स वीडियो ज्यादा देखता हूं और जो सेक्स पोज़िशन्स हैं, उनके बारे ज्यादा पढ़ता हूं, उन्हें आजमाता हूँ और मजे लेता हूं और मेरे सेक्स पार्टनर को देता भी हूँ.

तब शांत होकर हम दोनों लेटे रहे. तब करीब रात के 12 बज चुके थे।

हमने थोड़ी बहुत मस्ती की और फिर से हम दोनों तैयार हो गए।

अब हम दोनों का एक ही टारगेट था चुदाई!
तो हम एक दूजे को किस करने लगे और मैं किस करते करते उनके बालों में हाथ डाल रहा था तो कभी पीठ पर फिरा रहा था.

फिर मैंने कंडोम का पैकेट निकाला और उसमें का एक कंडोम लेकर चाची से कहा- इसे मेरे लंड को पहनाओ.
उन्होंने पहना दिया.
मैं जो कंडोम लाया था उस पर कुछ उभार से थे मतलब कुछ काँटों जैसे था. इनसे रगड़ लगने से योनि उत्तेजित हो जाती है. मुझे चाची को तड़पाना था तो मैंने ऐसा कंडोम पहना.

अब मैंने उन्हें बेड पर लेटा दिया और उनके दोनों पैरों को फैला दिया. और उनकी गांड के नीचे तकिया लगा दिया जिससे चाची की चूत और उभर के ऊपर आ गई.
मैं धीरे से अपना लंड उनकी चूत फेरने लगा तो चाची कामुक आहें भरने लगी और तड़पने लगी.

फिर मैंने एक झटके में अपना आधा लंड चाची की चूत के अंदर डाला और वो चीखने लगी- आ … ओ … उ..मा … मर गई!
तब मैं उनको किस करने लगा और उनके बूब्स दबाने लगा.

और फिर मैंने जोर से एक झटका दिया तो मेरा पूरा लंड अंदर चला गया और चाची जोर से चिल्लाई- आह … उम्म्ह… अहह… हय… याह…

चाची की दर्द भरी आवाज से मैं बहुत उत्तेजित हो गया. फिर मैंने धीरे धीरे अंदर बाहर करना शुरु किया और चाची भी मस्त होकर चुदाई करवा रही थी, मेरा पूरा साथ दे रही थी.
वे आवाज निकाल रही थी- आ … उह … याह … उई … और जोर से!

इस तरह हमने कई आसनों में सेक्स किया. चाची ने मेरे ऊपर आकर तीन से चार पोज़िशन में चुदाई की.

कूट चुदाई के इस खेल में मैं दो बार और चाची भी दो बार झड़ी।

मुझे कंडोम की वजह से पूरा मजा नहीं आया था. तो मैंने फिर से एक बार रात के 2 बजे चाची को चोदा.
तब मैंने उनको नीचे लिटा दिया और लंड को चाची की चूत में डाल दिया और उन्होंने अपने पैर मेरी पीठ पर लपेट दिए थे, अपने हाथों से मुझे जकड़ लिया था, मेरे हर शॉट के साथ वो भी ऊपर नीचे हो रही थी.

मैंने करीब 20 मिनट तक चाची को चोदा और और पूरा पानी चाची की चूत में ही छोड़ दिया।

अब हम शांत हो कर लेटे. तब चाची कह रही थी- अनिकेत, तुम्हें पता है, मेरा बच्चे बंद होने का ऑपरेशन नहीं हुआ है. हमने जो दो दिन चुदाई की है उसमें तुमने सारा पानी मेरे अंदर ही छोड़ा है. और मुझे भी हम दोनों का बच्चा चाहिये.

तब मैं तो जरा डर गया पर उनसे कहा- कुछ प्रोब्लम नहीं ना होगी?
तो वो बोली- नहीं होगी. तुम अब मेरे बच्चे के बाप बनने वाले हो. इस खुशी और भी कुछ हो जाए।

फिर मैंने चाची की गांड मारी और ओरल सेक्स किया। गांड मारते समय उन्हें बहुत दर्द हो रहा था. पर बाद में उन्होंने बहुत मस्त मजा लिया डॉगी स्टाइल में! पूरा रूम हमारे सेक्स की वजह से मस्त हो गया था।

और ओरल सेक्स में हमने स्टैंडिंग, 69 और 68 सभी पोजीशन में सेक्स किया. हमने खूब मजा लिया और पूरा पानी दोनों ने एक दूजे के मुंह में छोड़ दिया. सबसे ज्यादा मजा स्टैंडिंग में लिया क्योंकि वो मैंने पहली बार किया था और चाची का वजन ज्यादा ना होने के कारण उसमें बहुत मजा आया।

उस रात हमने एक दूजे के इस तरह से प्यार दिया था कि हम बहुत दिनों के प्यारे कपल हों।

फिर करीब डेढ़ महीने के बाद चाची हॉस्पिटल गई तो उनकी प्रेगनेंसी की बात पक्की हो गई. हम बहुत बातें करते थे हमारे आने वाले बच्चे के बारे में!
उन्होंने मुझे प्रोमिस किया है कि वे मेरे साथ सेक्स का आनंद लेती रहेंगी और मुझे भी मजा देती रहेंगी।
धन्यवाद।
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top